16 पुलिसकर्मियों की टीम ने गंगाशहर फायरिंग कांड के छह अभियुक्तों को किया गिरफ्तार , मुख्य आरोपी अभी भी फरार

बीकानेर, पुलिस ने आज 20 अक्टूबर की रात्रि को गंगाशहर में हुई फायरिंग प्रकरण में छह आरोपियों को गिरफ्तार मामले का पर्दाफाश किया है , लेकिन इस प्रकरण का मुख्य अभियुक्त अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है । जिसके इशारे पर इस प्रकरण को अंजाम दिया गया था । इस संबंध में आज बीकानेर रेंज आईजी प्रफुल्ल कुमार व एसपी प्रहलाद सिंह कृष्णियां ने गंगाशहर पुलिस थाना परिसर में प्रेस वार्ता आयोजित कर पूरे प्रकरण का खुलासा किया । जिसमें बताया गया कि 20 अक्टूबर की रात्रि को गंगाशहर निवासी नरेन्द्र सुराणा के घर पर दो मोटर साइकिलों पर सवार होकर आये चार व्यक्तियों ने जान से मारने की नियत से फायरिंग की व घर के बाहर खड़ी सुराणा की क्रेटा कार को आग के हवाले कर दिया था । जिसमें पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर व घटना की सीसीटीवी फुटेज देखे जाकर मुल्जिमान की तलाश हेतु नाकाबंदी करवाई । घटना की गंभीरता को देखते हुए आईजी प्रफुल्ल कुमार के निर्देशानुसार अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर पवन कुमार मीणा , सीओ सदर पवन कुमार भदौरिया , सीओ सिटी सुभाष शर्मा के सुपरविजन में गंगाशहर थानाधिकारी अरविंद भारद्वाज द्वारा घटना स्थल का निरीक्षण कर मुल्जिमान को ट्रेस आउट करने के संबंध में अलग – अलग टीमों का गठन किया और सीसीटीवी , तकनीकी , साइबर तकनीकी तथा फिल्ड की सूचना इत्यादि के टास्क दिये गये । पुलिस टीमों ने मुल्जिमान की तलाश व दबिश बीकानेर शहर के संभावित स्थानों पर दी गई । घटना स्थल से सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन आसपास के सभी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज का निरीक्षण कर तथा सीडीआर का विश्लेषण किया गया । पुलिस के अनुसरा टीम सदस्यों के अथक प्रयासों व गहन अनुसंधान से मुल्जिमान का पता कर फायरिंग करने वाले बदमाशों का पर्दाफाश किया । फायरिंग के लिये षड्यंत्र रचकर हथियार उपलब्ध करवाना तथा मुस्तगीस के घर पर फायरिंग व गाड़ी को जलाने की वारदात को अंजाम दिया गया ।

मुख्य आरोपी मुस्तगीस से 50 हजार रुपये करवाये जमा 20 अक्टूबर की रात्रि को एक बजे दो मोटरसाइकलों पर सवार चार व्यक्तियों ने इन्द्र चौक स्थित नरेन्द्र सुराणा के मकान पर फायरिंग की तथा गली में खड़ी उनकी गाड़ी को आग लगाकर जलाने का प्रयास किया । प्रकरण में फायर करने व गाड़ी जलाने वाली घटना ललित तंवर उर्फ लाला , भानुप्रताप सिंह , योगेश पुरोहित उर्फ राजा बाबु व राहुल पारीक उर्फ आरजे जाफरी के द्वारा कारित की गई । जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर कब्जे से एक अवैध पिस्टल बरामर की गई तथा घटना में काम लिये गये दो मोटरसाइकिल जब्त की गई । मुल्जिम गजेन्द्र सिंह ने घटना से पूर्व हथियार प्राप्त किये व घटना के समय हथियार मुल्जिमानों को उपलब्ध करवाये । मुल्जिम अक्षय खत्री के बैंक खाते में फिरौती के 50 हजार रुपये नामजद अभियुक्त हरिओम रामावत ने परिवादी नरेन्द्र सुराणा को धमकी देकर उससे जमा करवाये थे । इस खाते का एटीएम कार्ड हरिओम के पास है । पुलिस ने बताया कि अभियुक्त हरिओम द्वारा इन आरोपियों के जरिये यह घटना करवाई गई । पुलिस के अनुसार आरोपी हरिओम की तलाश हेतु विशेष टीम रवाना की गई है । टीम में ये पुलिसकर्मी थे शामिल आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली 16 सदस्यों की टीम में गंगाशहर थानाधिकारी अरविंद भारद्वाज , बीछवाला थानाधिकारी मनोज शर्मा , इंस्पेक्टर राणीदान , एसआई भोलाराम , एसआई संदीप पुनियां , हैड कांस्टेबल महावी सिंह , हैड कांस्टेबल अब्दुल सत्तार , साईबर सैल हैड कांस्टेबल दीपक यादव , हैड कांस्टेबल सुरेन्द्र कुमार , हैड कांस्टेबल सुरेन्द्र कुमार , कांस्टेबल दिलीप सिंह , कांस्टेबल हरेन्द्र , कांस्टेबल बिट्ट , कांस्टेबल योगेन्द्र ङ्क्षसह , कांस्टेबल रविन्द्र सिंह व कांस्टेबल पुष्पेन्द्र ङ्क्षसह शामिल थे ।
ये आरोपी हुए गिरफ्तार वार्ड नंबर 2 महादेवजी मंदिर के पास रहने वाला ललित तंवर उर्फ लाला पुत्र श्री चांदरतन तंवर माली , लालीमाई पार्क के सामने गोकुल सर्किल निवासी भानुप्रताप सिंह पुत्र मंगलसिंह , बारह गुवाड चौक सुरदासनीयों की गली निवासी योगेश पुरोहित उर्फ राजा बाबु पुत्र नवरतन ब्राह्मण , पारीक चौक निवासी राहुल पारीक उर्फ आरजे जाफरी पुत्र देवेन्द्र पारीक , रानी बाजार निवासी गजेन्द्र सिंह पुत्र मेघसिंह , रानी बाजार निवासी अक्षय उर्फ ईशु पुत्र राजकुमार खत्री हैं ।

SHARE