विक्रम लैंडर से संपर्क टूटने के 11 दिन बाद इसरो ने कहा- हमारा साथ देने के लिए शुक्रिया


भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने चंद्रयान-2 मिशन को देशवासियों का समर्थन मिलने पर शुक्रिया कहा। एजेंसी ने मंगलवार रात ट्वीट किया, “साथ खड़े होने के लिए आप सभी का शुक्रिया। हम दुनियाभर में मौजूद भारतीयों की उम्मीद और सपनों के बल पर आगे बढ़ना जारी रखेंगे।” इसरो ने पोस्ट में एक फोटो भी शेयर की। इसमें चांद के सामने एक व्यक्ति एक चट्टान से दूसरी ऊंची चट्टान पर छलांग लगाता नजर आ रहा है।

ISRO

@isro

Thank you for standing by us. We will continue to keep going forward — propelled by the hopes and dreams of Indians across the world!

Twitter पर छबि देखें
17.8 हज़ार लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

दरअसल, विक्रम से संपर्क के लिए इसरो के पास अब सिर्फ 3 दिन ही शेष रह गए हैं। 20-21 सितंबर को चंद्रमा पर रात होते ही उससे दोबारा संपर्क साधने की उम्मीद लगभग खत्म हो जाएगी।

हार्ड लैंडिंग के बाद चंद्रयान-2 से नहीं हो पाया संपर्क

इसरो का यह ट्वीट चंद्रयान-2 की चांद पर लैंडिंग की कोशिश के 11 दिन बाद आया। 7 सितंबर को चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की चांद पर हार्ड लैंडिंग हुई थी। तब सतह को छूने से सिर्फ 2.1 किमी पहले लैंडर का इसरो से संपर्क टूट गया था। इसरो के अधिकारियों की तरफ से कहा गया था कि लैंडिंग के दौरान विक्रम गिरकर तिरछा हो गया है, लेकिन टूटा नहीं है। वह सिंगल पीस में है और उससे संपर्क साधने की पूरी कोशिशें जारी हैं।

ऑर्बिटर सात साल तक काम करता रहेगा: इसरो
इसरो के अधिकीरी ने बताया कि चंद्रयान के ऑर्बिटर का वजन 2,379 किलोग्राम है और इसे एक साल की लाइफ के हिसाब से डिजाइन किया गया है। इसे लेकर जाने वाले रॉकेट की परफॉर्मेंस की वजह से इसमें मौजूद अतिरिक्त फ्यूल सुरक्षित है। ऐसे में ऑर्बिटर की लाइफ अगले 7 साल होगी।