चरागाह जमीन पर कब्जे को लेकर दो पक्षों में चले लाठी-पत्थर, 14 लोग हुए घायल


दौसा जिले के लालसोट उपखंड के टोडा गंगा गांव में चरागाह भूमि पर कब्जा संभलवाने के मामलों को लेकर एक ही समुदाय के दो पक्षों के बीच जमकर लाठी-भाटा (पत्थर) जंग हुई। इसमें दोनों पक्षों के 14 लोग घायल हो गए।
घायलों को राजकीय सामुदायिक चिकित्सा केंद्र पर लाया गया। घायलों में पांच की गंभीर अवस्था के कारण उन्हें जयपुर रेफर किया गया है। अभी तक दोनों पक्षों ने पुलिस में प्राथमिकी दर्ज नहीं कराई है।

पुलिस अधिकारी गुलाब सिंह ने बताया कि टोडा गंगा गांव में लक्ष्मी नारायण माली द्वारा चरागाह भूमि पर कब्जा कर खेती की जा रही थी। कजोड़मल माली द्वारा इसे वापस मांगने की बात को लेकर दोनों के बीच में झगड़ा हो गया जो खूनी संघर्ष में बदल गया। दोनों ओर से एक-दूसरे पर लाठियां चलाई गईं तथा पत्थर फेंके गए। इसमें 14 लोग घायल हो गए।

करीब 15 साल पूर्व चरागाह भूमि पर काबिज कजोड़मल ने अपने ऊपर के कर्ज को चुकाने के लिए लक्ष्मीनारायण को कमाने-खाने के लिए जमीन का कब्जा दे दिया। उसने गांव के पंच पटेलों के कहने पर यह जमीन लक्ष्मीनारायण को दी ताकि वह जमीन से कमा कर अपने कर्जे का भुगतान कर सके।

जमीन पर दिया हुआ पैसे का कर्जा लक्ष्मी नारायण का चुक गया तो कजोड ने लक्ष्मीनारायण से अपनी जमीन वापस मांगी तथा जुताई करने का प्रयास किया। इस पर लक्ष्मण तथा कजोड़ के पक्ष के बीच में लाठी-भाटा जंग हो गई। जिसमें 14 जने घायल हो गए। पांच को जयपुर रेफर किया गया है।