देश के 3 सांसद मोदी मंत्री मंडल में हुए शामिल, एक कैबिनेट तो दो ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली


गुरुवार को प्रधानमंत्री मोदी के साथ राजस्थान के भी तीन सांसदों ने मंत्री पद की शपथ ली। जिसमें दो पुराने और एक नया नाम शामिल है। इनमें गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल और कैलाश चौधरी शामिल रहे। जिसमें गजेंद्र सिंह शेखावत को कैबिनेट मंत्री बनाया गया। वहीं अर्जुन राम मेघवाल और कैलाश चौधरी ने राज्यमंत्री के पद की शपथ ली।

गौरतलब है कि कैलाश चौधरी ने पहली बार सांसद का चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। उन्होंने बाड़मेर से कांग्रेस में शामिल हुए दिग्गज नेता और जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र को हराया। वहीं, गजेंद्र सिंह और अर्जुन राम मेघवाल केंद्र सरकार में मंत्री रह चुके हैं। बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बड़ी जीत हासिल करते हुए भाजपा ने राजस्थान की सभी 25 सीटों पर कब्जा किया है।

2014 में सिर्फ एक सांसद ने ली थी शपथ

बता दें कि 2014 में राजस्थान से मात्र 1 सांसद निहाल चंद मेघवाल को ही मंत्री बनाया गया था। जिसके बाद पहले मंत्रिमंडल विस्तार में राज्यवर्धन राठौड़ और सांवरलाल जाट को मंत्री बनाया गया था। अगले विस्तार में जाट और निहाल चंद को हटाकर अर्जुन राम मेघवाल, पीपी चौधरी और सीआर चौधरी को मंत्री बनाया गया। इसके बाद हुए विस्तार में गजेंद्र सिंह शेखावत मंत्री बने। यह सभी राज्यमंत्री रहे। राजस्थान में एक भी मंत्री ऐसा नहीं रहा जिसका कार्यकाल पूरे पांच साल का रहा।

गजेंद्र सिंह शेखावत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खास माने जाने वाले गजेंद्र सिंह शेखावत लगातार दूसरी बार सांसद चुने गए हैं। उन्होंने इस बार के चुनाव में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत को जोधुपर लोकसभा सीट से हरा हरा कर बड़ी जीत हासिल की। 1967 को जन्में गजेंद्र सिंह शेखावत भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी से सदस्य रहे हैं। उन्हें तीन सितंबर 2017 को नरेंद्र मोदी सरकार में कृषि व किसान कल्याण राज्यमंत्री बनाया गया। गजेंद्र सिंह ने जोधपुर की जेएनवी यूनिवर्सिटी से फिलोसॉफी में एमए करने के बाद फिलोसॉफी में ही एमफिल किया। छात्र जीवन से ही आरएसएस से जुड़े रहे हैं। 1992 में जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय के अध्यक्ष थे।

अर्जुन राम मेघवाल

आईएएस अफसर रह चुके अर्जुन राम मेघवाल 2009 में पहली बार सांसद बने थे। जिसके बाद 2014 में एक बार फिर जीत कर संसद पहुंचे। वे साइकिल से संसद पहुंचने के कारण चर्चा में भी बने रहे। सन् 2010 में उन्हे राजस्थान में भाजपा का वाइस प्रेसिडेंट बनाया गया। इस दौरान वे केंद्र सरकार में कई पदों पर रहे। मेघवाल अपने कार्यकाल के दौरान  रेलवे स्टेंडिंग समिति के सदस्य रहे। इसके साथ केंद्रीय राज्य मंत्री, वित्त मंत्रालय और कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय जैसे पदों पर भी रहे। सन् 2017 से उनके पास संसदीय कार्य मंत्रालय और जल संसाधन, नदी विकास और गंगा कायाकल्प मंत्रालय है।

कैलाश चौधरी

कैलाश चौधरी भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष हैं। बायतु के पूर्व विधायक कैलाश चौधरी तीन बार विधानसभा चुनाव लड़े। एक बार जीते और दो बार हारे। भाजपा किसान मोर्चे के प्रदेश अध्यक्ष होने के साथ संगठन में मजबूत पकड़ है। युवाओं से जुड़ाव के साथ पहली बार लोकसभा का टिकट मिला। जिसमें उन्होंने बाड़मेर से जीत हासिल की। उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार और जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को हराया।