322 दिव्यांग बच्चों को 436 अंग उपकरण वितरण


जयपुर। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि राजस्थान में दिव्यांगों की सहायता के लिए राज्य सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है। पहले सिर्फ सात श्रेणियों में दिव्यांगों को सहूलियत देकर उपकरण वितरित किए जाते थे। अब 21 श्रेणियों में उन्हें राहत प्रदान की जा रही है।
शिक्षा राज्यमंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने शनिवार को अजमेर में राजकीय गांधी भवन उच्च प्राथमिक विद्यालय तोपदड़ा में सर्व शिक्षा अभियान की ओर से आयोजित अंग उपकरण वितरण कार्यक्रम में यह बात कही। उन्होंने कहा कि अंग उपकरण दिव्यांगों को निःशुल्क उपलब्ध कराए जा रहे है। राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से बड़ी संख्या में दिव्यांगाें को राहत मिली है। राज्य सरकार चाहती है कि समाज का यह वर्ग किसी तरह से उपेक्षित या वंचित नहीं रहे। उन्होंने सभी से आग्रह किया कि अपने आसपास के दिव्यांगों को चिन्हित कर सरकारी योजनाओं से लाभ दिलवाएं।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार चाहती है कि दिव्यांगों को समाज की मुख्यधारा में शामिल किया जाए। दिव्यांग बच्चों के माता-पिता बच्चों की दिव्यांगता को छुपाए नहीं। दिव्यांग बच्चों को स्कूल भेजे व उन्हें अन्य बच्चों की भांति ही समझें। कृत्रिम अंग उपकरण नवीनतम तकनीक से तैयार किए जा रहे हैं ताकि दिव्यांगों को अधिकतम राहत मिल सके। इसके अलावा कई अन्य योजनाओं से दिव्यांगों को लाभान्वित किया जा रहा है।
कार्यक्रम में कुल 322 दिव्यांग बच्चों को 436 अंग उपकरण वितरण किए गए। इसमें 40 ट्राईसाईकिल, 39 व्हील चेयर, 22 केलिपर्स, 15 बैसाखी, 29 ब्रेल किट, 22 रोलेटर, 5 सीपी चेयर, 129 एमआर किट, 29 स्मार्ट केन, 106 हियरिंग ऎड वितरण किए गए। इन उपकरणों पर कुल 8 लाख 21 हजार 340 रूपए का व्यय हुआ।
कार्यक्रम में उपनिदेशक प्रारम्भिक शिक्षा श्री जीवराज जाट, श्री श्यामलाल सागांवत डीईईओ प्रारम्भिक शिक्षा, श्री दिनेश ओझा एडीपीसी, श्री दिनेश कुमार सैनी डीसीआईईडी सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद थे।