36 कौम के लोग साथ निकलेंगे तो बनेगा नया राजस्थान-मुख्यमंत्री


डीडवाना में 1,843 करोड़ के कार्यों का शिलान्यास-उद्घाटन 
जयपुर। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि यदि राजस्थान के 36 कौम के लोग एक साथ निकलेंगे, तो नए और उन्नत राजस्थान का सपना साकार हो जाएगा। हमारी सरकार ने सभी को साथ लेकर चलने का प्रयास किया है और इसके सकारात्मक परिणाम अब सामने आ रहे हैं।
श्रीमती राजे मंगलवार को नागौर जिले के डीडवाना के श्री बलदेव राम मिर्धा स्टेडियम में डीडवाना नहरी पेयजल एवं क्लस्टर वितरण प्रणाली पैकेज-3 सहित विभिन्न विकास परियाजनाओं के शुभारम्भ एवं शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि आप सभी दुआएं और प्यार देते हैं, जिससे सरकार की ताकत बढ़ती है और राज्य में विकास के नए आयाम स्थापित होते हैं।
मुख्यमंत्री ने सालासर रोड स्थित पीएचइडी के हैडवक्र्स पर नागौर लिफ्ट परियोजना के द्वितीय चरण का शुभारम्भ किया। उन्होंने पम्प का बटन दबाकर जलापूर्ति शुरू की। उन्होंने बर्तन में मीठा पानी भरा और इसका स्वाद चखा। उन्होंने कहा कि नागौर की जनता को मीठा पानी पिलाने का जो वादा उन्होंने किया, उसके लिए वर्श 2006 में ही कार्य प्रारम्भ कर दिया और पहले चरण में नागौर, बासनी, मेड़ता, मूंडवा और कुचेरा और 494 गांवों को पानी दिया जाना था। अब तक इनमें से पांच कस्बों और 218 गांवों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के द्वितीय चरण में नागौर जिले के सात शहरों और 986 गांवों को मीठा पानी मिलेगा।
श्रीमती राजे ने ‘हम सबका गौरव राजस्थान’ का नारा देते हुए कहा कि जिस प्रकार डीडवाना के सभी लोगों ने मिलकर शहर की शक्ल बदल दी है, उसी प्रकार यदि प्रदेश के 36 कौम के लोग साथ मिलकर आगे बढ़ेंगे तो राज्य की किस्मत बदल जाएगी। देश और दुनिया के लोग ‘नया राजस्थान’ देखने यहां आएंगे। उन्होंने सभा स्थल में मौजूद हजारों लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि आप नहीं तो हम नहीं, आपकी ताकत हम सबकी ताकत है।
श्रीमती राजे ने कहा कि एक समय था जब डीडवाना में पानी नहीं था, अब सरकार के प्रयासों से घर-घर में पानी पहुंच जाएगा। डीडवाना को नागौर लिफ्ट पेयजल परियोजना के द्वितीय चरण से जिले के लाखों लोगों को हिमालय का मीठा और शुद्ध पानी मिलने लगेगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए 1 हजार 660 किलोमीटर की पाइप लाइन बिछाई जाएगी। सात जीएसएस, 7 पम्प हाउस, 65 उच्च जलाशय और 8 स्वच्छ जलाशय बनाए जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने जायका के नेशनल हैड टकीमा साकामोको का धन्यवाद जताते हुए कहा कि जायका के जरिए हुए 4 हजार करोड़ के कार्यों के माध्यम से ही यह परियोजना पूरी हो पा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार सूरतगढ़, उदयपुरवाटी और चौहटन के लोगों को भी नहरी पानी उपलब्ध करवाने के प्रति संकल्पबद्ध है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि नावां को जून के अंत तक परबतसर के आखिरी छोर तक वर्ष 2020 तक पानी उपलब्ध करवा दिया जाएगा।
श्रीमती राजे ने कहा कि राजस्थान में सरकार ने पहली बार लघु और सीमांत सहित लगभग 30 लाख किसानों के 80 हजार करोड़ रुपये के फसली ऋण माफ करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि सहकारिता विभाग द्वारा व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा के तहत राशि 50 हजार रुपये के स्थान पर अब दस लाख रुपये तक का लाभ दिया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने स्कूली शिक्षा में नए सोपान तय किए हैं। जब सरकार बनी तो राज्य स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में 26वें नंबर पर था और आज सभी के प्रयासों से हम देश में दूसरे स्थान पर पहुंच गए हैं। राज्य में एक साथ पांच हजार स्कूलों को क्रमोन्नत कर दिया गया है और अब दस हजार से ज्यादा स्कूलों को क्रमोन्नत करने की योजना है। उन्होंने आह्वान किया कि माताएं अपनी बेटियों को खूब पढ़ाएं और सरकार भी बालिका शिक्षा के लिए कृतसंकल्प है।
श्रीमती राजे ने डीडवाना में राजकीय बांगड़ चिकित्सालय के 300 शैयाओं वाले अस्पताल में क्रमोनयन एवं नए भवन निर्माण का शिलान्यास किया। इस कार्य पर 7.78 करोड़ रुपये व्यय होंगे। उन्होंने कहा कि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत आज प्रदेश के गरीब से गरीब व्यक्ति का इलाज बड़े-बड़े अस्पतालों में निःशुल्क हो रहा है। सरकार 500 करोड़ रुपये तक की दवाइयां निःशुल्क उपलब्ध करवाने का कार्य कर रही है।
इस अवसर पर केन्द्रीय खाद्य राज्यमंत्री श्री सी.आर. चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में राज्य में शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल तथा सड़क सुदृढ़ीकरण सहित प्रत्येक क्षेत्र में ऎतिहासिक कार्य हुए हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने डीडवाना को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाया है, आने वाली पीढ़ियां इस उपलब्धि को याद करेंगी।
सार्वजनिक निर्माण मंत्री श्री यूनुस खान ने श्रीमती राजे को भागीरथ और लाखा बंजारा बताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के प्रयासों से ही डीडवाना की धरती पर हिमालय का मीठा पानी पहुंच सका है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने नागौर जिले को ऎसी सौगातें दी हैं, जिनके लिए इन्हें सदा याद रखा जाएगा। चिकित्सा राज्यमंत्री तथा नागौर के जिला प्रभारी मंत्री श्री बंशीधर बाजिया ने कहा कि मीठा पानी पाकर डीडवाना की मातृशक्ति प्रसन्न हैं तथा मुख्यमंत्री का कोटि-कोटि आभार जता रही हैं।
जायका के नेशनल हैड श्री टकीमा साकामोको ने कहा कि भारत जायका का अभिन्न अंग है। राजस्थान से हमारा पुराना जुड़ाव हैै। राजस्थान सरकार और जायका के संयुक्त प्रयासों से नागौर में पानी की समस्या समाप्त हो चुकी है।
इस अवसर पर श्री विश्णु प्रसन्नाचार्य महाराज ने कहा कि आज का दिन डीडवाना के लिए महोत्सव की तरह है। डीडवाना के निवासियों की आंखें मीठे पानी के लिए पथरा गई थीं। श्रीमती राजे के प्रयासों से मीठा पानी पाकर डीडवाना के लोग उमंग एवं उत्साह में डूब गए हैं। श्री धनश्यामाचार्य महाराज ने कहा कि मुख्यमंत्री ने डीडवाना को मीठा जल उपलब्ध करवाकर पुनीत कार्य किया है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने विश्णु प्रसन्नाचार्य तथा धनश्यामाचार्य महाराज के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया।
इस अवसर पर सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक, लाडनूं विधायक श्री मनोहर सिंह, विधायक श्री मानसिंह किनसरिया, श्री सुखराम मेघवाल, श्री श्रीराम भींचर, डॉ. मंजू बाघमार, श्री विजय सिंह, डीडवाना नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती ग्यारसी देवी, डीडवाना के नायब शहर काजी शादीक उस्मानी सहित अन्य गणमान्यजन उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने की मंगल कलश यात्रा की अगुवाई
मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने डीडवाना के पं. बच्छराज व्यास आदर्श विद्या मंदिर से मंगल कलश यात्रा को रवाना किया। डीडवाना में हिमालय का मीठा पानी पहुंचने के उपलक्ष्य में डीडवाना की हजारों महिलाओं ने सिर पर मंगल कलश धारण कर शोभा यात्रा निकाली। हजारों की संख्या में पारम्परिक वेशभूषा में महिलाओं को देखकर मुख्यमंत्री अभिभूत हो गई और उन्होंने कहा कि यह खुशी हिमालय के मीठे पानी का कमाल है। उन्होंने सिर पर मंगल कलश धारण कर कलश यात्रा की अगवाई की। इससे पहले उन्होंने पंडित बच्छराज व्यास की प्रतिभा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किए।
श्रीमती राजे ने सैनिक कल्याण कार्यालय द्वारा डीडवाना में स्थापित टैंकर टी-55 का अवलोकन किया तथा शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की। इस दौरान उन्होंने 1971 के युद्ध सैनानी तथा वीर चक्र विजेता श्री सरदार खान, नायब सूबेदार सरदार खां, हवलदार नाथूसिंह और अजमेरी खां से मुलाकात की। श्रीमती राजे ने केन्द्रीय बस टर्मिनल का शिलान्यास एवं इसके मॉडल का अवलोकन किया। यह टर्मिनल, परसावत परिवार द्वारा बनाकर राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम को ंभेंट किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने डीडवाना शहर के लाडनूं फाटक सी-64 पर 36.30 करोड़ रुपये की लागत से तैयार आरओबी का उद्घाटन किया। श्रीमती राजे ने मुख्यमंत्री ने डॉ. बी. आर. अम्बेडकर तथा पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। श्रीमती राजे ने डीडवाना में 3.41 करोड़ रुपये की लागत से नवनिर्मित सार्वजनिक निर्माण विभाग के डाक बंगले का लोकार्पण किया।
मुख्यमंत्री ने डीडवाना को दी यह सौगातें-
मुख्यमंत्री ने डीडवाना में 1843 करोड़ 44 लाख रुपये लागत के निम्न कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास कियाः
लोकार्पण/उद्घाटन लागत (करोड़ रु.)
1.राजस्थान ग्रामीण पेयजल एवं फ्लोराइड निराकरण परियोजना
(नागौर लिफ्ट पेयजल परियोजना फेज-2) 1382
2. डाक बंगला निर्माण कार्य, डीडवाना 3.41
3. स्टेट हाईवे-7 लाडनूं फाटक सी-64 पर आरओबी निर्माण कार्य 36.31
4. स्टेट हाईवे-60 नागौर फाटक बी-67 पर आरओबी निर्माण कार्य 57.80
5. फव्वारा सर्किल से फतेहपुरी गेट, डीडवाना शहरी गौरव पथ 2.50
6. भोपजी का बास से झुंझार जी का मन्दिर ग्रामीण सड़क 0.40
7. बालिया से व्यापारियों की ढाणी तक सड़क 0.65
8. दादूबासनी से गरदेज्या बासनी तक सड़क 0.60
9. नन्दवान से भण्डारी-केराप तक सड़क 0.40
10. ग्राम डाकीपुरा में आम गुवाड़ में मुख्य सड़क से नारायण रामजी एवं श्योजी रामजी की ढाणी तक मंगलपुरा रास्ते तक डामर सड़क का निर्माण कार्य 0.51
11. सालासर रोड़ (आस की ढाणी) से व्यापारियों की ढाणी 0.60
12. प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र निर्माण शेरानी आबाद 1.19
शिलान्यास
1. राजकीय बागड़ अस्पाताल डीडवाना को 300 शैय्या क्रमोन्नत 23.28
2. सीडीएस-03 कलस्टर वितरण पैकेज-डीडवाना पेयजल परियोजना (170 ग्राम व 181 ढाणियां) 243
3. पुनर्गठित शहरी जल योजना, डीडवाना 32.03
4. आरओबी एवं आरयुबी निर्माण कार्य रेल्वे चैनेज किमी 415/4-50 एसएच-60 किमी 159 (पीर पहाड़ी के पास) से एसएच-7डी किमी 110 (रहमान गेट) वाया बालिया-रामसाबास (एमडीआर-200) 48.85
5. डीडवाना में दशहरा मेला मैदान में टाउन हॉल निमार्ण कार्य 8.46
6. नेहरू पार्क का जीर्णाेद्धार व सौन्दर्यकरण 1.45
   कुल लागत (करोड़ रुपये)                        1843.44