मेडिकल कॉलेजों में नौकरी दिलवाने एवं टेन्डर दिलवाने के बहाने 66 लाख की ठगी, डॉक्टर गिरफ्तार


नये मेडिकल कॉलेजों में नौकरी दिलवाने एवं टेन्डर दिलवाने का झांसा देकर 66 लाख रूपए की धोखाधड़ी करने के मुकदमे में आरोपी डाक्टर पारूल शर्मा (एमबीबीएस) को सीकर से गिरफ्तार कर लिया।

एसओजी व एटीएस के एडीजी अनिल पालीवाल ने बताया कि  गिरफ्तार आरोपी पारूल शर्मा पुत्र प्रेम प्रकाश शर्मा निवासी रामलीला मैदान के पास, सीकर है। उसे पुलिस इंस्पेक्टर धर्मवीर सिंह चौधरी के नेतृत्व में गठित टीम ने पकड़ा।

एडीजी ने बताया कि परिवादी पूरण यादव ने एक रिपोर्ट पेश की कि वर्ष 2017 में आलोक शर्मा व संजय शर्मा के मार्फत पारूल शर्मा नाम के व्यक्ति से सचिवालय की सरस पार्लर की कैंटीन में मुलाकात हुई थी।

तब पारूल ने खुद को सीकर मेडिकल कॉलेज में नोडल ऑफिसर व एमबीबीएस डाक्टर होना बताया। उसने राजनीतिक पहुंच का हवाला दिया। परिवादी को झांसा देते हुए कहा कि मैं सात नये मेडिकल कॉलेज में एल्यूमिनियम व ग्लास कार्य हेतु टेण्डर दिलवाने व लैब टैक्नीशियन व एलडीसी के पदों पर नियुक्ति करवा दूंगा।

इस प्रकार परिवादी से अलग अलग तारीखों में करीब 66 लाख रूपये ले लिये और परिवादी को चिकित्सा विभाग, राजस्थान सरकार के फर्जी नियुक्ति आदेश व कागजात दे दिये। टेंडरों के लिए भी इण्डियन मेडिकल सर्विसेज कॉपरेशन लिमिटेड के फर्जी वर्क आर्डर दे दिये। एडीजी पालीवाल ने बताया कि आरोपी पारूल शर्मा ने वर्ष 2008 में एसएमएस मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस करना बताया है। उससे पूछताछ जारी है।