सड़क हादसे के बाद घायल युवक ने दम तोड़ा, परिजन बोले-मॉब लिचिंग, एसपी बोले-महज दुर्घटना


जिले के चौपानकी थाना इलाके में तीन दिन पहले 16 जुलाई की शाम को एक राहगीर महिला को टक्कर मारने वाले बाइक चालक हरीश जाटव (28) की शुक्रवार को मौत हो गई। वह पिछले दो दिनों से दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में भर्ती था। घटना के बाद परिजनों ने मौत की वजह मॉब लिचिंग बता रहे है। वहीं, अलवर पुलिस अधीक्षक मामले को प्रथमदृष्टया दुर्घटना बता रहे है।

घटना के बाद झिवाणा गांव निवासी मृतक हरीश के पिता रत्तीराम जाटव ने 17 जुलाई को चौपानकी थाने में मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसमें बताया कि 6 जुलाई को शाम 7 बजे उनका बेटा हरीश (28) बाइक पर भिवाड़ी से अपने गांव आ रहा था। इस दौरान चौपानकी थाना क्षेत्र के फलसा गांव में उमरशेर के घर के पास उसकी बाइक से सड़क पार कर रही एक महिला को टक्कर लग गई।

इसके बाद उमरशेर ठेकेदार व अन्य लोगों ने उनके बेटे हरीश से मारपीट की। वह गंभीर घायल हो गया। हरीश के पिता की रिपोर्ट पर चौपानकी थाना पुलिस ने एसटी एससी एक्ट और मारपीट का मुकदमा दर्ज किया था। इससे हरीश के गांव वालों में रोष व्याप्त हो गया। यह घटना को मॉब लिचिंग से जोड़कर देखा जाने लगा।

शुक्रवार तड़के हरीश की नई दिल्ली में अस्पताल में उपचार के दौरान मौत होने से मॉब लिचिंग में घायल हरीश की मौत होने की खबरें फैलने लगी। इस बीच शुक्रवार को अलवर एसपी पारिस देशमुख ने एक प्रेसवार्ता बुलाई। जिसमें उन्होंने प्रथमदृष्टया इस घटना को मॉब लिचिंग का मामला होने से इंकार किया है। उन्होंने कहा कि मामला दुर्घटना का है। जिसकी जांच एएसपी देवेंद्र सिंह राजावत को सौंपी है।

वहीं, एसपी देशमुख ने बताया कि 16 जुलाई को शाम को चौपानकी थाने के हैडकांस्टेबल श्रीराम गोपाल को गश्त के दौरान सूचना मिली थी कि फलसा में खूबी सरपंच के मकान के पास एक्सीडेंट हो गया है। तब पुलिस मौके पर पहुंची। तब हरीश घायल हालत में सड़क पर पड़ा था। वहां काफी संख्या में लोग इकट्‌ठा थे।

तब पुलिस ने घायल हरीश को अस्पताल पहुंचाया। उसके मोबाइल फोन से संपर्क किया। तब पत्नी रेखा जाटव से बात हुई। जिसने घायल हरीश उसका पति होने की जानकारी दी। इसके बाद परिजन अस्पताल पहुंचे थे और फिर हरीश को उपचार के लिए सफदरगंज अस्पताल ले गए।

दूसरी तरफ, 17 जुलाई को ही फलसा गांव निवासी जमालुद्दीन मेव ने चौपानकी थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई। जिसमें बताया कि 16 जुलाई को रात करीब आठ बजे उनकी पत्नी हकीमन (55) सड़क पार कर रही थी। उसी वक्त बाइक चालक हरीश ने उनकी पत्नी हकीमन को टक्कर मार दी। जिसमें वह घायल हो गई।

रिपोर्ट में जमालुद्दीन ने बताया कि हादसे के बाद उसका बेटा सराजू व अजरु दौड़करर मौके पर पहुंचे। जहां बाइक चालक शराब के नशे में धुत नजर आया। वह सड़क पर पड़ा था। उसके कई जगह चोटें आई हुई थी। जिसे पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया। दोनों मुकदमों का अनुसंधान एएसपी देवेंद्र सिंह राजावत को सौंपा गया है।