वायु सेना प्रमुख धनोआ ने कहा- सीमा पार से किसी भी हरकतों का जवाब देने के लिए सेना सतर्क है


जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी किए जाने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच उत्पन्न तनाव को लेकर भारतीय वायुसेना के प्रमुख बीएस धनोआ ने कहा कि वायु सेना सीमा पार से किसी भी संभावित हरकतों का जवाब देने के लिए सतर्क और होशियार है। उन्होंने कहा, “हम पाकिस्तान की तरफ से तैनाती पर नजर बनाए हुए हैं। भारतीय वायुसेना हमेशा सतर्क रहती है। वायु सुरक्षा हमारा उत्तरदायित्व है। हम इसके लिए तैयार हैं।”

उन्होंने कहा- वायु सेना न सिर्फ शत्रु लड़ाकू विमान का जवाब देने के लिए तैयार है बल्कि हम नागरिक एयरक्राफ्ट पर भी नजर बनाए हुए हैं ताकि पुरुलिया जैसी घटना न हो सके। पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले में 18 दिसम्बर 1995 को विमान से हथियार गिराए गए थे।

रावत ने कहा था- सीमा पर तैनाती को लेकर चिंतिंत नहीं 

भारत सरकार के जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से राज्य में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर दोनों तरफ से भारी गोलीबारी की घटना दर्ज की गई है। पाकिस्तान की तरफ से सीमा पर सैन्य तैनाती की रिपोर्ट आ रही है। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने पिछले हफ्ते ही इस गतिविधि को सामान्य बताया था। रावत ने कहा था, “हर कोई सुरक्षा को देखते हुए सेना और हथियार की तैनाती करना चाहता है। किसी को भी इसको लेकर चिंतित नहीं होना चाहिए।”

पाकिस्तान ने कहा था कि पुलवामा जैसी घटना दोबारा होगी

इससे पहले, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने भारत को चेतावनी देते हुए कहा था कि पुलवामा जैसी घटना दोबारा हो सकती है। पाकिस्तान खून के अपने आखिरी कतरे तक लड़ता रहेगा। पाकिस्तान के अमेरिका में राजदूत असद मजीद खान ने गत 12 अगस्त को कहा था कि उनका देश अफगानिस्तान सीमा से सेना को हटाकर कश्मीर की सीमा पर तैनात कर सकता है।