जीवन में मधुरता लाने के लिए आज मांगे गलतियों की माफी


क्षमा मांगने के लिए खास दिन ही क्यों?
जीवन में गलती को स्वीकार करना सबसे मुश्किल काम होता है। ऐसा करने में अक्सर व्यक्ति का अहम आड़े आता है लेकिन जब इसके लिए कोई खास दिन होता है तो पूरा वातावरण क्षमा मांगने और क्षमा करने के लिए अनुकूल हो जाता है।

इंसान ही नहीं प्रकृति से भी मांगे माफी
जैन धर्म के इस पावन पर्व पर क्षमा केवल व्यक्ति से ही नहीं बल्कि संसार के सभी जीव-जंतुओं से मांगी जाती है। साथ ही प्रकृति से भी क्षमा याचना की जाती है कि अनजाने में यदि हमने बिजली, पानी, अन्न, पुष्प, फल आदि का अनावश्यक प्रयोग या दुरुपयोग किया हो तो उसके लिए वह हमें क्षमा करे। साथ ही इस बात का संकल्प भी कि आगे से ऐसा अपराध नहीं होगा।