एक्सिस बैंक के दो बड़े अधिकारियों का इस्तीफा



नई दिल्ली। जानकार सूत्रों के मुताबिक देश के तीसरे सबसे बड़े एक्सिस बैंक के दो कार्यकारी अधिकारियों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। कॉरपोरेट व लेनदेन के प्रमुख सिद्धार्थ रथ व डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर वी. श्रीनिवासन ने इस्तीफा दे दिया। उल्लेखनीय है कि मुंबई आधारित इस बैंक के कॉरपोरेट लोन की राशि में काफी गिरावट आई है। रथ के इस्तीफे के बाद उनकी जगह पर स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के कॉरपोरेट हेड एसएम सुदर्शन को कॉरपोरेट व लेनदेन का प्रमुख बनाया गया है। रथ अब स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक में सुदर्शन की जगह लेने वाले हैं। रथ एक्सिस बैंक में 2001 से ही कार्यरत थे। उन्होंने यहां वाइस प्रेसिडेंट, प्रेसिडेंट कॉरपोरेट बैंकिंग व प्रेसिडेंट-लेनदेन की जिम्मेदारी भी निभाई है। बैंक की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक उन्होंने कॉरपोरेट एंड प्रोजेक्ट एडवाइजरी सर्विस, सिंडिकेटीकरण व डेट मार्केट को बैंक में स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। श्रीनिवासन ने एक्सिस बैंक में अपनी सेवा की शुरुआत 2009 में एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर (कॉरपोरेट) के रूप में की थी। फिर अक्टूबर 2012 में उन्हें डायरेक्टर के रूप में प्रोन्नति मिली। एक्सिस बैंक से पूर्व वह जेपी मॉर्गन के डायरेक्टर थे। अब वह किस संस्थान में अपनी सेवा देंगे, यह जानकारी अभी नहीं मिल पाई है। एक्सिस बैंक के एक प्रवक्ता ने बताया कि बैंक की नीति को लेकर वह इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते। स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक ने भी इस मामले में किसी भी टिप्पणी से इनकार कर दिया। लेकिन रिलायंस सिक्यूरिटीज लिमिटेड के बैंक विश्लेषक आशुतोष मिश्रा ने बताया कि कॉरपोरेट लोन के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहा है। इसलिए एेसी परिस्थिति में बैंकों को सावधानीपूर्वक कदम उठाना होगा। उल्लेखनीय है कि हाल ही में रिजर्व बैंक अॉफ इंडिया ने एक्सिस बैंक पर गैर निष्पादक संपत्तियों (नॉन पर्फार्मिंग एसेट्स) नियम के उल्लंघन करने के चलते तीन करोड़ का जुर्माना लगा दिया था। साथ ही सेबी (सिक्यूरिटी व एक्सचेंज बोर्ड अॉफ इंडिया) ने भी बैंक से संबंधित सूचना ह्वाट्सएप पर सार्वजिनक करने के मामले में बैंक के खिलाफ जांच शुरू किया है।