राजस्थान में 162 निकायों में भाजपा को नहीं मिले प्रत्याशी

राजस्थान में 16 नवंबर को होने जा रहे निकाय चुनाव में 162 वार्ड ऐसे हैं, जहां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को अपने चुनाव चिन्ह पर लड़ने वाला प्रत्याशी नहीं मिला। इन वार्डों में पार्टी निर्दलीय प्रत्याशियों को समर्थन दे रही है।

राजस्थान में 16 नवंबर को 49 नगरीय निकायों के 2105 वार्डों के लिए चुनाव होना है। इनमें चुनाव के लिए पार्टी प्रत्याशियों का चयन कर चुकी है, हालांकि पार्टी को 2105 में 1943 वार्डों में ही प्रत्याशी मिले। शेष 162 वार्डों में पार्टी विभिन्न कारणों से प्रत्याशी नहीं ढूंढ पाई। राजस्थान में कुछ जगह स्थानीय स्तर की खींचतान बड़ा कारण बनी, वहीं ज्यादातर वार्ड ऐसे हैं, जो मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र हैं।

दरअसल, निकाय चुनाव से पहले सरकार ने सभी निकायों में वार्डों का नए सिरे से परिसीमन कराया है और वार्डों की संख्या में भी अच्छी बढ़ोतरी की है। इसके चलते कई वार्ड छोटे हो गए हैं। वहीं, वोट बैंक की राजनीति के हिसाब से भी वार्डों की सीमा तय की गई है। ऐसे में राजस्थान के हर निकाय में औसतन आठ से दस वार्ड ऐसे बन गए हैं, जहां मुस्लिम मतदाताओं का वर्चस्व है। भाजपा को ऐसे ही वार्डों में अपने लिए प्रत्याशी नहीं मिल पाए हैं। इसलिए भाजपा इन वार्डों में निर्दलीय प्रत्याशियों को समर्थन दे रही है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी मीडिया से बातचीत में इस बात को स्वीकार किया है कि अल्पसंख्यक मतदाता बाहुल्य वाले वार्डों में पार्टी की पहुंच सीमित है। जिन वार्डों में पार्टी को प्रत्याशी नहीं मिल पाए, वहां की सामाजिक, राजनीतिक परिस्थिति देख कर निर्दलीय प्रत्याशी को समर्थन दिया जाएगा।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि 162 में से 80 प्रतिशत वार्ड ऐसे ही हैं। पार्टी ने हाल में सदस्यता अभियान के दौरान अल्पसंख्यक मोर्चे को सक्रिय किया था।

SHARE