भाजपा सांसद रमा देवी ने कहा- मुझमें आजम खान जैसे लोगों का सामना करने की हिम्मत


भाजपा सांसद रमा देवी ने सपा नेता आजम खान की लोकसभा में की गई अभद्र टिप्पणी को लेकर शनिवार को प्रतिक्रिया दी। रमा देवी ने कहा कि उनमें आजम जैसे नेताओं का सामना करने की हिम्मत है। सभी दलों के नेताओं ने इस मुद्दे पर बैठक की है और इसका नतीजा सोमवार को सामने आएगा। गुरुवार को लोकसभा में तीन तलाक बिल पर बहस के दौरान शिवहर (बिहार) से सांसद रमा देवी बतौर पीठासीन अधिकारी स्पीकर की कुर्सी पर बैठी हुई थीं। तभी आजम ने उन पर टिप्पणी की।

रमा देवी ने कहा- “जिस कुर्सी पर मैं बैठी थी वह सभी की है। उन्होंने अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल देश की सभी महिलाओं के लिए किया है। मेरे संसदीय क्षेत्र की जनता ने मुझ पर विश्वास जताया और मुझे चुनकर संसद में भेजा। मुझमें ऐसे लोगों (आजम खान) का सामना करने की ताकत है।”

आजम खान से माफी की मांग

आजम की टिप्पणी को लेकर लोकसभा में जमकर हंगामा हुआ। कार्यवाही के दौरान ही कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आजम से माफी की मांग की थी। वहीं, स्पीकर ओम बिड़ला ने आजम से माफी मांगने को कहा। इसके बाद आजम ने रमा देवी को अपनी प्यारी बहन बताया। लेकिन, माफी मांगने की बात पर वह यह कहकर सदन से बाहर चले गए कि मुझे बेइज्जती सहकर यहां बात नहीं रखनी। इसके बाद सपा सांसद अखिलेश यादव ने आजम का बचाव करते हुए कहा था, ‘‘अगर भाषा असंसदीय लगे तो इसे रिकॉर्ड से निकाल दें, लेकिन मुझे नहीं लगता कि उन्होंने कुछ भी गलत भावना से नहीं कहा।’’

अखिलेश की भाषा में अहंकार झलकता है: रमा

रमा देवी ने अखिलेश को जवाब देते हुए शनिवार को कहा, “उन्होंने सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए ऐसा बोला है। उनकी भाषा में उनका अहंकार और घमंड दिखता है। उन्हें ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, वे पूर्व में एक मुख्यमंत्री रह चुके हैं। उन्होंने वो सब कुछ कहा ताकि आजम खान को बचाया जा सके। कोई इसकी सराहना नहीं करेगा। लोकसभा एक आदरणीय जगह है। एक व्यक्ति लोगों की तरफ से दिए गए वोट के बाद वहां पर जाता है।”