शेयर बाजार में उछाल



वैश्विक बाजारों से कमजोर संकेत मिलने के बावजूद बिजली, बैंकिग, यूटिलिटीज और पीएसयू समूहाें में हुई लिवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 115.27 अंक की बढ़त के साथ 33,370.63 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 33.20 अंक की तेजी में 10,245.00 अंक पर बंद हुआ।

घरेलू बाजार में कुल मिलाकर निवेश धारणा मजबूत रही। रिजर्व बैंक की बांड के संबंध में बैंकों को दिये नये निर्देश से बैंकिंग क्षेत्र बढ़त में रहा। वाहन बिक्री के सकारात्मक आंकड़े भी निवेशकों का रुझान बरकरार रखने में कामयाब रहे। निजी क्षेत्र का आईसीआईसीआई बैंक विवादों में घिरा होने के बावजूद सबसे अधिक मुनाफे में रहा। इसके शेयरों के भाव 2.94 प्रतिशत बढ़े। हालांकि, आरबीआई की 4-5 अप्रैल को होने वाली इस वित्त वर्ष की पहली मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के मद्देनजर निवेशकों से सतर्क रूख अपनाये रखा। ऐसा माना जा रहा है कि आरबीआई नीतिगत दरों में इस बार कोई बदलाव नहीं करेगा।

विदेशी बाजारों के गिरावट में रहने की खबरों से सेंसेक्स की शुरूआत भी कमजोर रही और यह 33,197.42 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान 33,402.94 अंक के उच्चतम और 33,153.83 अंक के निचले स्तर से होता हुआ यह अंतत: गत दिवस की तुलना में 0.35 फीसदी की तेजी में 33,370.63 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 17 कंपनियां हरे निशान में और शेष 13 लाल निशान में रहीं। निफ्टी की शुरूआत भी कमजोर रही आैर यह 10,186.85 अंक पर खुला।

कारोबार के दौरान 10,255.35 अंक के उच्चतम और 10,171.05 अंक के निचले स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 0.33 फीसदी की तेजी में 10,245.00 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 30 कंपनियों में तेजी आैर 20 में गिरावट रही। दिग्गज कंपनियों की तुलना में छोटी और मंझोली कंपनियों ने अधिक निवेश आकर्षित किया।

बीएसई का मिडकैप 0.92 फीसदी यानी 148.69 अंक की तेजी में 16,335.01 अंक पर और स्मॉलकैप 1.35 प्रतिशत यानी 234.18 अंक की बढ़त में 16,335.01 अंक पर बंद हुआ। बीएसई में कुल 2,787 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ, जिनमें 145 कंपनियों के शेयर के भाव अपरिवर्तित रहे जबकि 1,846 में तेजी और 796 में गिरावट रही।