सीसीटीवी में नजर आया दुष्कर्म का संदिग्ध आरोपी, 10 दिन पहले भी बच्ची को अगवा कर किया था दुष्कर्म


शहर के शास्त्री नगर इलाके में 1 जून की रात को सात साल की मासूम बच्ची से उसके पिता का दोस्त बनकर अगवा करने और फिर उसके साथ दुष्कर्म करने की वारदात करने वाला दुष्कर्मी सीसीटीवी फुटेज में नजर आया है। इसी तरह की एक और वारदात 22 जून को शास्त्री नगर इलाके में हुई थी। जिसमें बाइक सवार युवक पांच साल की एक बच्ची को उसके दादा का परिचित बताकर अपने साथ ले गया था।

इसके बाद संदिग्ध ने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और उसे छोड़कर भाग निकला था। वारदात के बाद तब परिजन शास्त्री नगर थाने पहुंचे थे। वहां दुष्कर्म की रिपोर्ट भी दर्ज करवाई। लेकिन पुलिस ने उसे चुप कराकर घटना का जिक्र किसी से भी करने से मना कर दिया था। लेकिन 22 जून के बाद शास्त्री नगर थाना पुलिस मासूम बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी को 10 दिन भी गिरफ्तार नहीं कर सकी।

इस दौरान 1 जुलाई की रात को फिर से सात साल की बच्ची से दुष्कर्म की वारदात हो गई। बाइक सवार युवक ने बच्ची को उसके पापा का दोस्त बनकर अगवा कर लिया और अमानीशाह के नाले में ले जाकर दुष्कर्म किया। इससे पुलिस का मानना है कि मासूम बच्चियों से दुष्कर्म की दोनों वारदातों में आरोपी एक ही हो सकता है। जब स्थानीय लोगों को दूसरी वारदात का भी पता चला। तब आक्रोश छा गया। इसके बाद कांवटिया सर्किल पर देर रात जमकर विरोध प्रदर्शन किया।

पुलिस बल ने भीड़ को वहां से खदेड़ा तो कुछ उपद्रवी युवकों ने वहां कॉलोनियों में 100 से ज्यादा वाहनों के शीशे फोड़े। घरों में पत्थर फेंके। स्थानीय लोगों से मारपीट की। इससे वहां क्षतिग्रस्त वाहनों के मालिक और कॉलोनीवासी सैंकड़ों की संख्या में शास्त्री नगर थाने पहुंचे। वहां विरोध जताया। तब पुलिस ने उन्हें भी खदेड़ा तो दूसरे समुदाय के लोग भी आक्रोशित हो उठे। इससे काफी संख्या में दोनों समुदायों के लोग अलग अलग जगह इकट्‌ठा हो गए।

हालांकि, वे भारी संख्या में पुलिस बल और अधिकारियों की मौजूदगी से आपस में नहीं टकराए। लेकिन भट्‌टा बस्ती में पुलिस पर पथराव जरुर किया। इससे मंगलवार रात तक तनाव व्याप्त रहा। कफर्यू से हालात बन गए। स्कूल बंद हो गई। वही, अफवाहों का दौर शुरु हो गया। इसके चलते शहर के 13 थाना इलाकों में मंगलवार दोपहर को 2 बजे से बुधवार सुबह 10 बजे तक इंटरनेट बंद कर दिया गया।