मुख्यमंत्री गहलोत बोले- जो पहले गांधी के खिलाफ थे, आज वे हमसे ज्यादा उनकी बात करते है


गुरुवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बिड़ला सभागार में गांधी जयंती सप्ताह के तहत आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे। इस दौरान कलाकारों ने चरखे के साथ भजनों की प्रस्तुति दी। साथ ही महात्मा गांधी की वेबसाइट का भी शुभारंभ हुआ। इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज गांधी का वो लोग नाम लेते हैं, जो पहले गांधी के खिलाफ थे। जो गांधी व पटेल को नहीं मानते थे, आज वे भी गांधी की बात हमसे ज्यादा करते हैं।

अशोक गहलोत ने अपने संबोधन में कहा कि महात्मा गांधी का योगदान सदियों तक याद रखा जाएगा। कल महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समाप्त हुई है, लेकिन एक साल तक प्रदेश में अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को गांधी के विचारों का लाभ मिल सके। इस दौरान उन्होंने शिक्षा मंत्री से कहा कि हर छात तक पहुंचे गांधीवादी विचार।

उन्होंने कहा कि आज देश में भय और हिंसा का माहौल है। युवाओं के सामने रोजगार की समस्या खड़ी है। गांधी का चिंतन करने से अधिकांश समस्याओं का समाधान होता है। मैने खुद गांधी की जीवनी 2 से 3 बार बढ़ी है। दुश्मनी निकालने का कोई अंत नहीं होता। हर व्यक्ति को गांधी के सत्य प्रयोग पढ़ने चाहिए।

सिलिकोसिस पॉलिसी का किया विमोचन
इस दौरान मुख्यमंत्री गहलोत ने सिलिकोसिस पॉलिसी का विमोचन भी किया। उन्होंने पीड़ितों को मासिक पेंशन देने का ऐलान किया। जिसके अंतर्गत हर महीने 4000 रुपए पेंशन दी जाएगी। वहीं मृतक के आश्रितों को साढ़े तीन हजार रुपए मिलेंगे। आश्रित के लिए पांच साल तक पेंशन का प्रावधान रखा गया है। साथ ही सिलिकोसिस बीड़ित के बच्चों के शिक्षा के लिए भी वित्तीय सहायता दी जाएगी। वहीं कार्यक्रम के दौरान स्वतंत्रता सैनानियों का सम्मान भी किया गया।