यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार चिन्मयानंद की तबीयत बिगड़ी, लखनऊ रेफर


यौन शोषण के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद की सोमवार को शाहजहांपुर जेल में तबीयत बिगड़ गई। डॉक्टरों ने उसे केजीएमसी लखनऊ रेफर किया है। 20 सितंबर को हुई गिरफ्तारी से पहले भी उसकी तबीयत बिगड़ी थी। अभी वह 14 दिन की न्यायिक हिरासत में है। चिन्मयानंद के कॉलेज की छात्रा ने 24 अगस्त को वीडियो वायरल कर उस पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मामले की जांच एसआईटी को सौंपी थी।

वहीं, दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली छात्रा शनिवार देर रात प्रयागराज पहुंची थी। एसआईटी ने छात्रा को रंगदारी मांगने का आरोपी बनाया है। ऐसे में उस पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। माना जा रहा है कि हाईकोर्ट की शरण लेकर वह कार्रवाई से बचने का प्रयास कर सकती है। छात्रा रात करीब एक बजे पिता, भाई, हाईकोर्ट के दो वकील सुरक्षाकर्मियों के साथ प्रयागराज के लिए रवाना हुई थी।

छात्रा समेत 4 युवकों पर रंगदारी मांगने का आरोप: एसआईटी
एसआईटी ने तीनों युवकों के अलावा छात्रा को चिन्मयांनद से रंगदारी मांगने का आरोपी बनाया है। ऐसे में उसकी गिरफ्तारी भी तय मानी जा रही है, लेकिन छात्रा व उसके पिता ने एसआईटी पर शासन के दबाव में नाम शामिल करने का आरोप लगाया है, जिसके बाद से एसआईटी ने इस मामले में गेंद हाईकोर्ट के पाले में डालने की तैयारी की है। अब इस पर फैसला कोर्ट करेगा।

एसआईटी हाईकोर्ट में रिपोर्ट पेश करेगी 
चिन्मयानंद पर दुष्कर्म का आरोप और उनसे रंगदारी मांगने के मामले में सोमवार को एसआईटी अपनी रिपोर्ट हाईकोर्ट में दाखिल करेगी। ऐसे में माना जा रहा है कि हाईकोर्ट छात्रा पर कार्रवाई को लेकर कोई आदेश दे सकती है। इसके लिए एसआईटी प्रमुख नवीन अरोड़ा टीम के कुछ सदस्यों के साथ दस्तावेज लेकर रविवार सुबह प्रयागराज के लिए रवाना हो गए थे।