चिन्मयानंद को जेल में वीआईपी सुविधा नहीं, करवटें बदलते रात कटी; पीड़िता को भी गिरफ्तारी का डर


लॉ कॉलेज की छात्रा के यौन शोषण का आरोपी चिन्मयानंद जेल में पहली रात सो नहीं सका और करवटें बदलते रहा। शुक्रवार को गिरफ्तारी के बाद उसे शाहजहांपुर की जेल में रखा गया है। यहां उसे आम विचाराधीन कैदियों की तरह सुविधाएं दी जा रही हैं। उधर, चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को भी गिरफ्तारी का डर सता रहा है। उसके तीन साथियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। छात्रा ने उसने बात करने की बात कबूल की है।

जेल सूत्रों के मुताबिक, चिन्मयानंद को सुरक्षा की मद्देनजर जिला कारागार में सामान्य कैदियों से अलग बैरक में रखा गया है। इस जेल में उसके तीन विपक्षी भी बंद हैं। चिन्मयानंद ने शाम को सामान्य भोजन लिया। रात को काफी देर तक गुमसुम बैठा रहा। यहां उसकी पहली रात मुश्किलों भरी कटी। वह न्यायिक हिरासत के दौरान 4 अक्टूबर तक जेल में रहेगा।

पीड़िता को भी गिरफ्तारी का डर सता रहा

शुक्रवार को चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में एसआईटी ने जब से पीड़िता के तीन दोस्तों को गिरफ्तार किया है। तब से परिवार को उसकी गिरफ्तारी का भी डर सता रहा है। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि पुलिस एक तरह से पीड़िता पर दबाव बनाने की कोशिश कर रही है।

पूछताछ में चिन्मयानंद ने जुर्म कबूला  

एसआईटी प्रभारी नवीन अरोड़ा ने बताया था कि चिन्मयानंद ने पूछताछ में जुर्म कबूल कर लिया है। उसने कहा कि वह अपने किए पर शर्मिंदा है। इसके साथ ही पीड़िता भी जांच के दायरे में है। छात्रा ने माना है कि उसकी और गिरफ्तार युवकों की बात होती थी। चिन्मयानंद और छात्रा के बीच करीब 200 बार बातचीत हुई। चिन्मयानंद ने मोबाइल का डेटा डिलीट कर दिया था। चेक इन करते हुए सीसीटीवी फुटेज बरामद हुए हैं। वीडियो के आधार पर चिन्मयानंद की गिरफ्तारी हुई। छात्रा के तीन साथियों को भी जेल भेजा गया है।