नरेंद्र मोदी सरकार के चार वर्ष पूरा होने के विरोधस्वरूप कांग्रेस ने मनाया ‘विश्वासघात दिवस’


कांग्रेस नरेंद्र मोदी सरकार के चार वर्ष पूरा होने के विरोधस्वरूप शनिवार को देशभर में ‘विश्वासघात दिवस’ मना रही है। इसी के तहत त्रिपुरा कांग्रेस ने राज्य के विभिन्न भागों में विरोध-प्रदर्शन आयोजित किया। कांग्रेस नेता गोपाल राय ने कहा कि ‘विश्वासघात दिवस’ भारतीय जनता पार्टी नीत सरकार द्वारा चुनाव पूर्व किए गए वादे और कुशासन पर लोगों का ध्यान आकृष्ट करने के लिए मनाया जा रहा है।

राय ने यहां आयोजित एक रैली के बाद मीडिया से कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रत्येक वर्ष दो करोड़ नौकरी देने समेत चुनाव पूर्व किए गए अन्य सभी वादों को पूरा करने में विफल रहे।”

उन्होंने कहा कि ‘विश्वासघात दिवस’ के रूप में शनिवार को पूरे देश में रैली, धरना और प्रदर्शन आयोजित किया जा रहा है।

कांग्रेस नेता ने कहा, “भाजपा के सत्ता में आने के बाद चार साल से आम लोग काफी परेशानी में हैं। खासकर अल्पसंख्यक और दलित भय और हताशा के साथ दिन गुजार रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में बिना कानून व लोकतांत्रिक प्रक्रिया का पालन किए, भाजपा सरकार एकतरफा कार्रवाई कर कांग्रेस और इसके संगठन के विभिन्न कार्यालयों को ध्वस्त कर रही है।

राय ने कहा, “इनमें से कुछ कार्यालय 70 वर्ष तक पुराने हैं और हमारे पास इसके लिए उचित आधिकारिक दस्तावेज हैं। यहां तक कि पश्चिमी त्रिपुरा के जिलाधिकारी और कलेक्टर इमारत ढहाने के खिलाफ स्थानीय अदालतों के निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं।”

अधिकारियों का कहना है कि जिला प्रशासन ने सात मई को मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और कांग्रेस के कुछ कार्यालयों को इसलिए ढहा दिया, क्योंकि इनका निर्माण सरकारी जमीन पर किया गया था।