दारा सिंह ने की थी 1967 में ‘चांद पर चढ़ाई’, हिन्दी सिनेमा की पहली साइंस फिक्शन फिल्म थी


इसरो ने 22 जुलाई को चंद्रयान-2 का सफल प्रक्षेपण कर दिया है। चांद पर जाने और उस पर जीवन की मौजूदगी की कहानियों से बॉलीवुड भी अछूता नहीं रहा। 1967 में कावेरी प्रोडक्शन ने एक फिल्म बनाई थी ‘चांद पर चढ़ाई’। फिल्म में दारा सिंह लीड रोल में थे और चांद की धरती पर उतरे थे। फिल्म का डायरेक्शन टीपी सुंदरम ने किया था। इसे हिन्दी सिनेमा की पहली साइंस फिक्शन फिल्म माना जाता है।

‘चांद पर चढ़ाई’ की खास बातें

  1. फिल्म की कहानी, नाम की तरह ही दिलचस्प थी।  दारा सिंह यानी अंतरिक्ष यात्री कैप्टन आनंद और उनका सहयोगी भागू, चांद पर जाता है। चांद की धरती पर कदम रखते ही इन दोनों को दूसरे ग्रहों से आए कई तरह के मॉन्सर और योद्धाओं से दो-चार होना पड़ता है। फिल्म में हेलन, अनवर हुसैन, पद्मा खन्ना, भगवान दादा और सी रत्ना ने भी काम किया था।

    cpc

  2. हिन्दी सिनेमा की पहली साइंस फिक्शन

    चांद पर चढ़ाई या ट्रिप टू मून भारतीय सिनेमा की शुरुआती साइंस फिक्शन फिल्मों में से एक थी। फिल्म के स्पेस शिप और स्पेससूट देखकर ईड वुड के फैन्स चकित हो सकते हैं।  ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म चांद पर चढ़ाई में रॉकेट लॉन्चिंग के दृश्य भी दिखाए गए थे। इस फिल्म का म्यूजिक ऊषा खन्ना ने तैयार किया था। जिसमें ज्यादातर गाने लता मंगेशकर ने गाए थे। अन्य सिंगर्स में मो. रफी, सुमन कल्याणपुर, कमल बारोट, आशा भोंसले भी शामिल थे।