गूगल-डूडल ने भारत के पहले सुपरस्टार केल सहगल को उनके 114वें जन्मदिन पर किया याद



Kalam E Rajasthan। भारत के जाने-माने सिंगर और एक्टर केएल सहगल के 114वें जन्मदिन पर गूगल डूडल ने श्रद्धांजलि अर्पित की है। गूगल ने डूडल के जरिए केएल सहगल को अपने खास अंदाज में याद किया है। डूडल ने सहगल के कैरिकेचर के जरिए उन्हे माइक के सामने गाते हुए दिखाया है। केएल सहगल का जन्म 11 अप्रैल 1904 को हुआ था। वह जम्मू में पैदा हुए थे। कुंदनलाल सहगल भारतीय हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार माने जाते हैं।

200 गाने गाए

केएल सहगल ने अपने संगीत के सफर में कुल 200 फिल्मी और गैर फिल्मी गाने गाए, जोकि आज भी संगीत प्रेमियों की जुबान पर है। केल सहगल अपने खास अंदाज में गाना गाने के लिए प्रसिद्ध थे, उनकी आवाज लोगों को काफी पसंद थी और अपने कार्यकाल में उन्होंने कई बुलंदियों को छुआ। उनका गाना जब दिल ही टूट गया, एक बंगला बने न्यारा, हम अपना उन्हे बना ना सके, दो नैना मतवाले तिहारे, मैं क्या जानूं क्या जादू है, कतीबे तकदीर आज भी लाखों संगीतप्रेमियों की पसंद है। इन तमाम गानों को लोग आज भी पसंद करते हैं।

कई हिट फिल्में दी

केएल सहगल 1931-32 में सिनेमा जगत में आए और काफी लोकप्रिय गायक व अभिनेता बने। 1935 से 1947 के बीच वह काफी लोकप्रिय हुए थे। उन्होंने कुल 36 फिल्मों में काम किया, जिसमे से 28 हिन्दी फिल्में थी ,जबकि सात बंगाली फिल्म व एक तमिल फिल्म थी। अपने 15 साल के लंबे कार्यकाल में उन्होंने कई यादगार भूमिकाएं निभाई और कभी नहीं भूलने वाले गाने गाए। उनकी कुछ बेहद लोकप्रिय फिल्में प्रेसीडेंट, माई सिस्टर, जिंदगी, चांदीदास, भक्त सूरदास, तानसेन काफी हिट फिल्में थीं।

कई लोगों के लिए थे प्रेरणा

हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार केएल सहगल 42 वर्ष की आयु में 1947 के बाद तमाम बड़े गायकों के प्रेरणा स्त्रोत बने, जिसमे लता मंगेशकर, किशोर कुमार, मोहम्मद रफी और मुकेश भी शामिल हैं। आज के गूगल डूडल को विद्या नागराजन ने डिजाइन किया है, जिसमे केएल सहगल को गाते हुए दिखाया गया है, जबकि उनके बैकग्राउंट में कोलकाता शहर को दिखाया गया है, जहां शुरुआत में हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री, बॉलिवुड बसा हुआ था।

source: oneindia.com