उच्च शिक्षा मंत्री ने नई दिल्ली में केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री से की भेंट



राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान द्वितीय (रूसा) के लिये बनाये गए मापदंडों और नियमो में शिथिलता प्रदान करने संबंधी कई सुझाव दिए
जयपुर। उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी नेगुरुवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर से भेंट कर राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान द्वितीय (रूसा) के लिये बनाये गए मापदंडों और नियमो में शिथिलता प्रदान करने का सुझाव दिया, ताकि राजस्थान जैसे विशिष्ट परिस्थितियों वाले रेगिस्तान प्रधान प्रदेश मेंउच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के प्रयासों को और अधिक गति मिल सके। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री से प्रदेश की उच्च एवं तकनीकी शिक्षासे जुड़े विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की।
श्रीमती माहेश्वरी ने ट्रिपल आई आई आई टी, कोटा के लिए केन्द्रीय अंशदान की राशि 55.40 करोड़ रुपये का आवंटन करवाने की मांग भी रखी। साथ ही इसका कैम्पस एम एन आई टी जयपुर से कोटा में तकनीकी विश्वविद्यालय के पेट्रोलियम विभाग के नवनिर्मित भवन में शिफ्ट करवाने का आग्रह किया। ताकि उसमे वर्ष 2018-19 के लिए प्रथम वर्ष की कक्षाए संचालित हो सके।
श्रीमती माहेश्वरी ने केन्द्रीय मंत्री से प्रदेश के पांच नए विश्वविधालयो अलवर, भरतपुर, सीकर,बांसवाड़ा और बीकानेर तकनीकी यूनिवर्सिटीज के लिए कंपोनेंट -2 के अंतर्गत 55-55 करोड़ रुपये की ग्रांट जारी करवाने का आग्रह भी किया।
श्रीमती माहेश्वरी ने केन्द्रीय मंत्री के बताया कि सी जी पी एऔर एन ए सी सी के मापदंडों में शिथिलता देने से कंपोनेंट -3 के अंतर्गत कोटा यूनिवर्सिटी को केंद्र से 20 करोड़ रु की ग्रांट मिल सकेगी। इसी प्रकार कंपोनेंट -4 के तहत राजस्थान विश्वविद्यालय भी कवर हो सकेगा। उन्होंने कंपोनेंट -5 के अन्तर्गत नीति आयोग के अनुशंषा पर चयनित राज्य के बाड़मेर, जनजातिय क्षेत्र डूंगरपुर, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, उदयपुर,राजसमंद और चित्तौड़गढ़ तथा अल्पसंख्यक बहुल अलवर व भरतपूर जिलों के लिए नियमो मे शिथिलता देने का आग्रह किया ताकि उन्हें न्यू मोडल में अपग्रेडशन का लाभ मिल सकेगा।
श्रीमती माहेश्वरी ने कंपोनेंट -7 के तहत राज्यके धौलपुर व करौली में खोले गए नए व्यावसायिक कॉलेजों मै आधारभूत सुविधाओं के विकास के लिए मदद दिलवाने का आग्रह किया। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार कंपोनेंट -9 के तहतशिथिलता मिलने से प्रदेश के दो जिलो के डूंगरपुर व टोंक महिला महाविद्यालयो को भी यथोचित लाभ मिल सकेगा।श्रीमती माहेश्वरी ने श्री जावड़ेकर से प्रधानमंत्री के स्किल इंडिया मिशन को बढावा देने के लिये एन बी ए से पॉलोटेकेनिकल महाविधालयो के एक्रेडियशन के मापदंडों में भी शिथिलता दिलवाने के आग्रह किया।
इससे पूर्व उन्होंने अखिल भारतीय तकनिकी शिक्षा परिषद के अध्यक्ष श्री अनिल सहस्त्रबुद्धे तथा उपाध्यक्ष श्री एम पी पूनिया से भी भेंट की और उन्हें राज्य के इंजीनियरिंग व पोलोटेकेनिकल महाविद्यालययो की समस्याओं से अवगत करवाया तथा एन बी ए से पोलोटेकेनिकल महाविधालयो के एक्रेडियशन के मापदंडों में भी शिथिलता दिलवाने के आग्रह किया।