तेज बारिश से अजमेर में ढहा मकान, पुष्कर के डूब क्षेत्र में खाली कराए होटल


राजस्थान में बरसात का दौर जारी है। पिछले 24 घंटों में पाली, धौलपुर व अजमेर में बारिश का कहर देखने को मिला है। शनिवार सुबह आठ बजे तक पिछले 24 घंटों में राज्य में सबसे ज्यादा बरसात माउंट आबू में पांच इंच तो अजमेर में चार इंच हुई। अजमेर जिले में पिछले तीन दिन से जारी बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। भिनाय में बारिश से कुछ कच्चे मकान ढह गए। पुष्कर में पुलिस और प्रशासन अलर्ट पर है। डूब क्षेत्र में होटलों को खाली कराया जा रहा है। यहां पिछले तीन दिन से बरसात का दौर जारी रहने से सरोवर का जलस्तर 32 फुट हो गया है। खेतों में पानी भर गया है।

पुष्कर में बारिश आज भी जारी रही तो बाढ़ के हालात बन जाएंगे। वहीं धौलपुर में चंबल उफान पर है। यहां भमरोली, सहानपुर, घेर, तिगरा हथियाखर, गमा, घुरैया खेड़ा चंबल की बाढ़ से प्रभावित इन गांवों की करीब 700 बीघा बाजरे की फसल पानी में डूब गई है। राजधानी जयपुर में पिछले चार दिन से रुक-रुक कर बरसात का दौर जारी है। यहां शनिवार को भी रिमझिम बरसात होती रही। प्रदेश में अब तक सामान्य से 40 प्रतिशत अधिक बारिश हो चुकी है।

अजमेर :अजमेर में जारी तेज बारिश से दरगाह की ओर आने वाली संपर्क सड़क पर पहाड़ का एक हिस्सा गिर गया जिससे रास्ता बंद हो गया। बिजली का बोल पानी की पाइप लाइन टूट गई है। तुरंत बिजली वालों को फोन करके बिजली की लाइन को बंद कराया गया लोगों को संपर्क सड़क पर ना आने की हिदायत दी गई है। इसी तरह नया बाजार में बादशाह बिल्डिंग के पास भी एक मकान गिरा है। सड़कें जगह-जगह क्षतिग्रस्त हो गई है।

नागौर:  जिले में अच्छी बरसात हो रही है। परबतसर तहसील के ग्राम बस्सी में शुक्रवार दोपहर दो बजे से लगातार बारिश हो रही है। एनीकट भर गए है और नदियां उफान पर हैं। यहां से सरस्वती नदी की शुरुआत मानी जाती है। यह नदी 20 साल बाद चली है।

पिछले 24 घंटों में कहां कितने बरसे बादल
अजमेर में 104.5, भीलवाड़ में 41.0, वनस्थली में 42.1, जयपुर में 20.1, पिलानी में 29.2, सीकर में 37.4, कोटा में 1.6, सवाईमाधोपुर में 41.0, चित्तौड़गढ़ में 17.0, डबोक में 15.1, बाड़मेर में 10.4, जोधुपर में 88.2, माउंट आबू में 137.4, फलौदी में 7.0, बीकानेर में 79.0, चूरू में 3.4 मिमी बारिश हुई।

इस बीच अच्छी खबर है कि अजमेर, टोंक व जयपुर को पेयजल सप्लाई करने वाले बीसलपुर में पानी की आवक जारी है। बीसलपुर का गेज 314 पार हो गया है। इससे 2020 तक सिंचाई और पेयजल की समस्या नहीं होगी। बांध की भराव क्षमता 315.50 मीटर है। बांध पिछली बार 2016 में ओवरफ्लो हुआ था।

लगातार बारिश से तापमान भी स्थिर बना हुआ है। शुक्रवार को दिन में सबसे अधिक तापमान गंगानगर में 37.5 डिग्री रहा। बीती रात भी राज्य में सबसे अधिक तापमान यहीं 27.4 डिग्री रहा। प्रदेश में बीती रात सबसे कम तापमान माउंटआबू में 17.0 डिग्री रहा।