मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के तृतीय चरण का शुभारंभ सर पर रेत की तगारी उठाएं जुनून के साथ प्रभारी मंत्री ने किया शुभारंभ



जयपुर। ‘फावड़े से रेत डालकर धूप में सर पर तगारी उठाएं‘ गांव के तालाब के किनारे विसर्जन कर जोधपुर जिला प्रभारी एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री श्री सुरेन्द्र गोयल ने शनिवार को जोधपुर जिले के भावी तालाब पर मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के तृतीय चरण का शुभारंभ किया।

राज्य सरकार के इस महत्वाकांक्षी अभियान के दो चरणों का श्री गोयल ने शुभारंभ किया। जिला प्रभारी मंत्री के साथ सांसद श्री रामनारायण डूडी, विधायक श्री अर्जुन गर्ग तथा जिला कलेक्टर डा0 रविकुमार सुरपुर सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने भी चरण के इस शुभारंभ मौके पर श्रमदान किया।

श्री गोयल ने कहा कि राज्य सरकार ने इस अभियान के प्रथम चरण में 95 हजार, द्वितीय चरण में 1 लाख 31 हजार ढांचे बनाए। तृतीय चरण में भावी गांव से जिले का काम शुरू किया है। उन्होंने कहा कि पानी का महत्व समझकर एक-एक बूंद को बचाना चाहिए। पिछले 4 सालों में 17 हजार 22 करोड केवल पानी के कामों पर खर्च किया। इसके साथ ही तालाब की फेन्सिंग, वृक्षारोपण व तालाब का सौन्दर्यकरण भी होगा। सभी 36 कौमों के व्यक्तियों को रूचि लेकर काम करें। आपके सुझावों पर गांव के विकास कार्यों को स्वीकृत करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

राज्य सभा सदस्य श्री रामनारायण डूडी ने कहा कि जल संरक्षण हमारी परंपरा है। इस संरक्षण को मुख्यमंत्री ने अभियान के रूप में नया स्वरूप दिया है। वह गांव इतिहास में उल्लेखित है जहां जल संरक्षण को सदैव महत्व दिया गया है।

जिला प्रभारी सचिव एवं अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह दीपक उप्रेती ने कहा कि भावी 16 हजार की आबादी का गांव है तथा यहां का तालाब पूर्व में आसपास के गांवों को पानी पिलाता रहा है। मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान से इस तालाब के माध्यम से नया अध्याय जुड़ रहा है। हम मरूस्थलीय इलाके में है तो हमें पानी की उपलब्धता को सुदृढ़ करें तथा आत्म निर्भर बनें। यह अभियान सरकारी नहीं है बल्कि जन-जन तक जुड़ा है।

जिला कलेक्टर डा0 रविकुमार सुरपुर ने अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने तृतीय चरण के संबंध में चर्चा करते हुए कहा कि पानी जीवन के पंचतत्वों में से एक है। प्रथम व द्वितीय चरण की सफलता के बाद तृतीय चरण में प्रवेश कर रहे है। उन्होंने कहा कि मरूस्थलीय इलाकों में यह क्षेत्र प्रमुख है। जल संरक्षण हमारे आत्म शक्ति के बल पर ही  संभव है और हमारे किसानों व लोगों ने जल संरक्षण पर प्रभावी काम है।
सालोड़ी गांव में भी हुआ अभियान का कार्य
मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के तृतीय चरण के तहत शनिवार को मण्डोर पंचायत समिति के सालोडी गांव में भी नाड़ी खुदाई कार्य का शुभारंभ किया गया। नाड़ी खुदाई कार्य में ग्रामवासियों ने श्रमदान किया। इस अवसर पर सरपंच सहित अन्य महिलाएं एवं पुरूषों ने श्रमदान किया।