भारत ने विजय माल्या व ललित मोदी के संबंध में ब्रिटेन से मांगी मदद



भारत ने ब्रिटेन के सामने शराब कारोबारी विजय माल्या और आईपीएल के पूर्व प्रमुख ललित मोदी के शीघ्र प्रत्यर्पण की मांग रखी है। भारत और ब्रिटेन के अधिकारियों के बीच बुधवार को हुई वार्ता के दौरान नीरव मोदी मामले पर भी चर्चा हुई। ब्रिटेन से कहा गया कि वह भारत विरोधी गतिविधियों के लिए अपनी जमीन का इस्तेमाल नहीं होने दे।

दोनों देशों के गृह मंत्रालय के अधिकारियों के बीच करीब ढाई घंटे वार्ता चली। भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व गृह सचिव राजीव गौबा ने किया जबकि ब्रिटिश टीम की अगुआई पैट्सी विक्लिनसन ने की। एक अधिकारी के अनुसार, “हमने ब्रिटिश अधिकारियों से अपने यहां वांछित लोगों के प्रत्यर्पण में मदद का आग्रह किया है। इसकी प्रक्रिया चल रही है। हर कोई जानता है कि हमारी त्वरित कार्रवाई के चलते माल्या को ब्रिटेन के कोर्ट में जाना पड़ा।” वार्ता में माल्या, ललित मोदी और नीरव मोदी का मुद्दा उठा। भारत ने क्रिकेट बूकी संजीव कपूर के प्रत्यर्पण में भी मदद मांगी।

बता दें कि भारतीय बैंकों को नौ हजार करोड़ रुपये की चपत लगाने वाले माल्या मामले की सीबीआइ और ईडी जांच चल रही है। वह दो मार्च, 2016 को फरार होकर ब्रिटेन चला गया था। स्काटलैंड यार्ड ने प्रत्यर्पण वारंट जारी होने पर पिछले साल उसे गिरफ्तार किया था। फिलहाल वह जमानत पर है। उसके प्रत्यर्पण को लेकर कानूनी लड़ाई ब्रिटिश अदालत में चल रही है। 13 हजार करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक के कर्ज घोटाले को अंजाम देने वाला नीरव मोदी और उसका मामा मेहुल चोकसी इसी साल देश से फरार हुए। जबकि ललित मोदी मनी लांड्रिंग मामले में फंसने के बाद देश छोड़ गया था।