जयपुर मेट्रो संचालन के तीन साल पूरे



जयपुर। गुलाबी नगरी जयपुर में संचालित देश की छठी और राज्य की पहली मेट्रो रेल ने अपने तीन साल पूरे कर लिए हैं। वर्ष 2015 में 3 जून को शुरु हुई जयपुर मेट्रो हर रोज सुबह सवा छः बजे से रात्रि पौने दस बजे तक 134 फेरों के साथ बिना रुके, बिना थके तथा बिना किसी अवकाश के निर्बाध रूप से यात्रियों को समर्पित रही है।
जयपुर मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक श्री पवन कुमार गोयल ने बताया कि जयपुर मेट्रो ने कई अनूठे नवाचारों की पहल की है, जिसकी सराहना देश भर में हुयी है। उन्होंने बताया कि गत वर्ष राज्य सरकार द्वारा जयपुर मेट्रो को राजकीय विभाग एवं वाणिज्यिक भवनों की श्रेणी में राजस्थान ऊर्जा सरंक्षण पुरस्कार दिया गया तथा अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस पर श्याम नगर मेट्रो स्टेशन को पुरस्कृत किया गया।
श्री गोयल ने बताया कि डिजिटल इण्डिया मिशन के तहत नवाचार करते हुये जयपुर मेट्रो सम्पूर्ण कैशलेस मेट्रो रेल सेवा बनी। इसके अलावा पब्लिक ट्रांसपोर्ट में ऑटोमेटिक किराया कलेक्शन तथा टिकिट वेडिंग मशीन सुविधा और स्टेशनों पर निःशुल्क वाई-फाई सुविधा भी यात्रियों को दी गई। उन्होंने बताया कि महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने की दिशा में भी जयपुर मेट्रो ने सराहनीय पहल की है। यहां ऑपरेशन एवं मेन्टीनेन्स में 20 प्रतिशत से अधिक महिलाकर्मियों की भागीदारी है तथा महिला शक्ति रेलवे स्टेशन श्यामनगर में सम्पूर्ण मेट्रो प्रबन्धन महिलाकर्मियों द्वारा किया जाता है। इसके अतिरिक्त महिलाओं की सुविधा के लिए गर्भवती व धात्री महिलाओं के लिये आरक्षित सिटें और बेबी फीडिंग रूम का भी प्रावधान किया गया है।
श्री गोयल ने बताया कि मल्टीमॉडल ट्रांसपोर्ट इन्टीग्रेशन की सुविधा के तहत विभिन्न मेट्रो स्टेशनों पर टाटा मेजिक फीडर सेवा, 15 प्रतिशत कम किराये पर जुगनू ऑटो रिक्शा, पब्लिक बाईसाइकिल व मोबाईक शेयरिंग सेवा जैसी सुविधायें दी गई हैं। उन्होंने बताया कि मेट्रो द्वारा यात्रियों के लिये चौबीस घण्टे निःशुल्क चिकित्सा सुविधा के लिये मोबाइल ऎप भी लॉन्च किया गया है।
सीएमडी श्री पवन कुमार गोयल ने बताया कि आगामी वर्ष में जयपुर मेट्रो ने यात्री भार को डेढ़ गुना बढ़ाने के साथ राजस्व आय में 5 गुना वृद्धि करने के लिये विभिन्न मिशन कार्यक्रमों का निर्धारण भी किया गया है।