कल्याण सिंह को सीबीआई कोर्ट में 27 सितंबर को पेश होने का आदेश


सीबीआई की विशेष अदालत ने अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने के मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को 27 सितंबर को पेश होने का आदेश दिया। 6 दिसंबर, 1992 को बाबरी ढांचा ढहाने का षड्यंत्र रचने के मामले में कल्याण सिंह मुख्य आरोपी हैं। वे हाल ही में राजस्थान के राज्यपाल पद से मुक्त हुए हैं। राज्यपाल रहने के दौरान अनुच्छेद 361 के तहत अदालत उन्हें तलब नहीं कर सकती थी।

इससे पहले, सीबीआई की अर्जी पर विशेष न्यायाधीश एस के यादव ने 9 सितंबर को सीबीआई को कल्याण सिंह के राज्यपाल पद से मुक्त होने संबधी दस्तावेज पेश करने को कहा था। इस मामले में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, वरिष्ठ भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती समेत अन्य के खिलाफ विशेष अदालत में मुकदमा चल रहा है। सभी अभियुक्त जमानत पर हैं। सीबीआई को छूट दी गई थी कि जैसे ही वह पद से मुक्त हों, उन्हें तलब करने की अर्जी दी जाए।

हाल ही में राज्यपाल से पदमुक्त हुए थे कल्याण सिंह
कल्याण सिंह ने 9 सितंबर को फिर से भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। कल्याण सिंह ने 87 वर्ष की उम्र में एक बार फिर राजनीति में सक्रिय होने का मन बनाया है। सीबीआई ने 1993 में अन्य अभियुक्तों के साथ-साथ कल्याण सिंह के खिलाफ भी आरोप पत्र दाखिल किया था।