केरल में फिर निपाह वायरस मिला, राजस्थान में भी अलर्ट जारी


प्रदेश में स्वाइन फ्लू के बाद जानलेवा निपाह वायरस भी दस्तक दे सकता है। केरल में एक बार फिर निपाह वायरस का एक पॉजिटिव मामला सामने आने पर राजस्थान में चिकित्सा विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया है।

सभी जिलों के सीएमएचओ को भी सचेत कर दिया है। केरल निवासी 23 साल का एक व्यक्ति वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट पुणे में जांच के दौरान पॉजिटिव पाया गया। यहां 86 संदिग्ध मरीजों पर लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है। पिछले साल भी केरल में निपाह वायरस से 16 लोगों की मौत हुई थी।

ऐसे फैलता है वायरस
एसएमएस अस्पताल के अतिरिक्त अधीक्षक डॉ.अजीत सिंह व मेडिसन के डॉ. पुनीत सक्सेना का कहना है कि वायरस चमगादड़ से फैलता है जिन्हें फ्रूट बैट के नाम से भी जाना जाता है। चमगादड़ किसी फल को खा लेते हैं और उसी फल या सब्जी को कोई इंसान या जानवर खाता है तो संक्रमित हो जाता है।

निपाह वायरस इंसानों के अलावा जानवरों को भी प्रभावित करता है। तेज सिरदर्द और बुखार आिा है। संक्रमित व्यक्ति की मृत्युदर 74.5 फीसदी है। वर्ष -1998 में मलेशिया में पहली बार निपाह वायरस का पता लगाया गया था। सुंगई निपाह गांव के लोग सबसे पहले इस वायरस से संक्रमित होने के कारण गांव के नाम पर ही इसका नाम निपाह पड़ा।

इनका कहना है ….
केरल में निपाह वायरस का मामला सामने आने पर विभाग की ओर से अलर्ट जारी किया गया है। – डॉ. रवि शर्मा, अतिरिक्त निदेशक (ग्रामीण स्वास्थ्य)