ममता ने कहा- भाजपा ने जय श्री राम नारे का गलत इस्तेमाल किया, वह राजनीति में धर्म को मिला रही


प.बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को कहा कि भाजपा के नेता जय श्री राम का इस्तेमाल गलत तरीके से पार्टी के नारे के तौर पर कर रहे हैं। ममता ने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ”भाजपा के कुछ समर्थक मीडिया के एक धड़े का इस्तेमाल करके घृणा भरी विचारधारा को फैलाने की कोशिश में लगे हैं। ये कथित भाजपाई मीडिया फेक वीडियो, गलत खबरों के आधार पर भ्रम फैलाने और सच्चाई को दबाने की कोशिश में लगे हैं।”

बंगाल हमेशा सद्भाव, प्रगति और आगे की सोच का केंद्र रहा- ममता

  1. ममता ने लिखा, ”राम मोहन रॉय से लेकर विद्यासागर और अन्य महान समाज सुधारकों का बंगाल सद्भाव, प्रगति और आगे की सोच का केंद्र रहा है। लेकिन अब भाजपा की गलत रणनीति बंगाल को नकारात्मक तरीके से निशाना बना रही है। मुझे किसी राजनीतिक नारे से कोई दिक्कत नहीं है।”
  2. ”सभी राजनीतिक पार्टियों का अपना स्लोगन होता है। जैसे मेरी पार्टी का नारा जय हिंद, वंदे मातरम है। लेफ्ट पार्टियों का इंकलाब जिंदाबाद और अन्य पार्टियों के भी दूसरे हैं। हम एक-दूसरे का सम्मान करते हैं। जय श्री राम, जय राम जी की, राम नाम सत्य है… इनकी धार्मिक और सामाजिक मान्यताएं हैं। हम इन भावनाओं का सम्मान करते हैं।”
  3. ममता ने लिखा, ”भाजपा धर्म और राजनीति को मिलाकर इन धार्मिक नारों का इस्तेमाल गलत तरीके से पार्टी के लिए कर रही है। हम आरएसएस के नाम पर इन राजनीतिक नारों का जबरदस्ती सम्मान नहीं कर सकते। संघ को बंगाल ने कभी स्वीकार नहीं किया।”
  4. उन्होंने कहा, ”यह घृणा की विचारधारा को तोड़-फोड़ और हिंसा के द्वारा फैलाने की कोशिश है। इसका हमें मिलकर विरोध करना चाहिए। कोई कुछ लोगों को कुछ समय के लिए मूर्ख बना सकता है, लेकिन सभी लोगों को हमेशा के लिए मूर्ख नहीं बनाया जा सकता।”
  5. ममता ने कहा- यह वह वक्त है जब सख्त कार्रवाई की जरूरत है ताकि राजनीतिक कार्यकर्ताओं को अशांति, हिंसा, अराजकता और आम लोगों के जीवन को प्रभावित करने से रोका जा सके। इससे गलत विचारधाराओं को फैलाने के लिए धर्म के नाम पर लोगों में विभाजन पैदा करने की नीति को रोका जा सकेगा।
  6. उन्होंने लिखा, ”अन्य सभी राजनीतिक पार्टियां भी अगर इसी प्रकार की विभाजनकारी और विघटनकारी गतिविधियों का सहारा लेने लगीं तो माहौल बिगड़ जाएगा। भाजपा की इस तरह की रणनीति का पूरी तरह से विरोध करूंगी। मैं लोगों से अपील करती हूं कि घृणा की राजनीति करने वालों को मुंहतोड़ जवाब देने की जरूरत है, जिससे देश की संस्कृति और विरासत का सम्मान हो सके।”
  7. ममता के काफिले के सामने भी लगे थे जय श्री राम के नारे

    ममता बनर्जी बुधवार को अपने काफिले के सामने कुछ लोगों द्वारा जय श्री राम के नारे लगाने पर नाराज हो गई थीं। उन्होंने अपनी गाड़ी से उतरकर लोगों को फटकार लगाते हुए कहा था कि जय श्री राम के नारे लगाने वाले लोग बाहर के हैं और भाजपा के कार्यकर्ता हैं। ये अपराधी हैं और मुझे गाली दे रहे थे। हम इनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

  8. मानसिक संतुलन खो बैठी हैं ममता- भाजपा

    भाजपा नेता दिलीप घोष ने कहा था कि ममता बनर्जी अपना मानसिक संतुलन खो बैठी हैं। इसके बाद कुछ भाजपा नेताओं ने शनिवार को उत्तर 24 परगना में तृणमूल नेताओं और मंत्रियों के घर के बाहर जय श्री राम के नारे लगाए थे। इसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज भी किया था।