मायावती ने गठबंधन तोड़ने के संकेत दिए, कहा- लोकसभा में सपा के साथ से फायदा नहीं हुआ


बसपा प्रमुख मायावती ने सोमवार को दिल्ली में लोकसभा चुनाव के नतीजों की समीक्षा की। दिल्ली में सोमवार को उत्तर प्रदेश के पार्टी पदाधिकारियों और सांसदों के साथ बैठक में मायावती ने कहा कि सपा से गठबंधन का फायदा नहीं हुआ। हमें यादवों के वोट नहीं मिले। बसपा प्रमुख ने उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय संयोजकों से हर सीट का ब्योरा लिया।

मुसलमानों ने साथ दिया, सपा कार्यकर्ताओं ने खिलाफ काम किया- माया

सूत्र के मुताबिक, बैठक में मायावती ने कहा- सपा के साथ गठबंधन सोच-समझ कर किया था। हम अपने नफे-नुकसान को जानते थे, लेकिन इस गठबंधन से कोई फायदा नहीं हुआ। यादव वोट बसपा को ट्रांसफर नहीं हुए। वोट मिलते तो यादव परिवार के लोग नहीं हारते। सपा के लोगों ने गठबंधन के खिलाफ काम किया है। मुसलमानों ने हमारा पूरा साथ दिया। सूत्र के मुताबिक, उप्र की 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उप-चुनाव में बसपा अकेले ही चुनाव लड़ सकती है।

मायावती ने छह राज्यों के प्रभारी हटाए
बसपा ने लोकसभा चुनाव में देश की 300 सीटों पर चुनाव लड़ा था। उप्र में बसपा ने सपा और रालोद से गठबंधन किया था। यहां बसपा को 10 सीटें मिलीं। बाकी राज्यों में बसपा एक भी सीट नहीं जीत पाई। मायावती ने उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, राजस्थान, गुजरात और ओडिशा के प्रभारियों को हटा दिया है। दिल्ली और मध्यप्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष भी बदल दिए गए हैं। उप्र में बसपा प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा से उत्तराखंड के प्रभारी का चार्ज भी छीन लिया गया।

उप्र में लोकसभा चुनाव के नतीजे

पार्टी 2019 में सीटें 2014 में सीटें
भाजपा 62 71
कांग्रेस 1 02
सपा 05 05
बसपा 10 00
अपना दल 02 02