मायावती ने भाई को बनाया पार्टी उपाध्यक्ष, भतीजे आकाश नेशनल कोऑर्डिनेटर बने


बसपा सुप्रीमो मायावती ने रविवार को जोनल कोऑर्डिनेटरों और सांसदों के साथ बैठक की। इसमें मायावती ने छोटे भाई आनंद कुमार को पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया। वहीं, भतीजे आकाश को नेशनल कोआर्डिनेटर की जिम्मेदारी सौंपी गई।

बैठक में दानिश अली को लोकसभा में बसपा नेता के तौर पर चुना गया। पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम को भी नेशनल कोआर्डिनेटर की जिम्मेदारी दी गई। वहीं, इससे पहले बैठक में शामिल होने वाले पदाधिकारियों के मोबाइल, बैग, कलम और यहां तक की कार की चाबियां भी बाहर रखवा दी गईं।

उपचुनाव को लेकर हुई चर्चा

बैठक में मौजूद सूत्रों ने बताया कि बैठक में उत्तरप्रदेश की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर भी चर्चा हुई। हालांकि, बताया जा रहा है कि बसपा ज्यादातर सीटों पर प्रत्याशी पहले ही फाइनल कर चुकी है। फिर भी फीडबैक के आधार पर कुछ सीटों में बदलाव कर अंतिम लिस्ट तैयार की जाएगी। प्रत्याशियों की लिस्ट का आधिकारिक ऐलान भी जल्द किया जाएगा।

कौन हैं आंनद कुमार?
आनंद कुमार मायावती के छोटे भाई हैं। कभी नोएडा में क्लर्क हुआ करते थे। उन पर फर्जी फर्जी कम्पनी बनाकर करोड़ों रुपए लोन लेने और पैसे को रियल स्टेट में निवेश कर मुनाफा कमाने का आरोप है। आनंद कुमार पहली बार तब चर्चा में आए थे जब नोटबंदी के बाद उनके खाते में 1.43 करोड़ रुपए जमा हुए थे। आयकर विभाग और ईडी आय से अधिक संपत्ति मामले में जांच कर रहा है।

कौन हैं आकाश आनंद?
आकाश आनंद मायावती के भाई आनंद कुमार के बेटे हैं। लंदन से एमबीए करने वाले आकाश की बीएसपी की राजनीति में 2017 में एंट्री हुई। मायावती ने 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव हारने के बाद सहारनपुर की रैली में उन्हें लॉन्च किया था। हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में भी आकाश मायावती के साथ रैलियों और कार्यक्रमों में नजर आए थे।

लोकसभा में बसपा को 10 सीटों पर मिली जीत

लोकसभा चुनाव में बसपा ने सपा और रालोद से गठबंधन किया था। 80 सीटों वाले उप्र में भाजपा और उसके सहयोगी ने 64 सीटों पर जीत हासिल की। वहीं, बसपा 10 और सपा ने 5 सीटें जीतीं। पिछले लोकसभा चुनाव में बसपा का उप्र में खाता भी नहीं खुला था।