लेकसिटी को हरा-भरा और सुंदर बनाने को लेकर हुई बैठक



जयपुर। गृहमंत्री श्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि हमारी लेकसिटी का नैसर्गिंक सौंदर्य बेहद खुबसूरत है और इसेे संरक्षित रखने का दायित्व हम सभी का है। इसके लिए आगामी मानसून से पूर्व उदयपुर शहर एवं उसके आसपास के क्षेत्रों में एक लाख से अधिक पौधे लगाने का लक्ष्य सभी विभागों को मिलकर पूरा करना होगा।
श्री कटारिया सोमवार को उदयपुर यूआईटी सभागार में शहर में वृहद पौधरोपण कार्यक्रम को लेकर आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। इस अवसर पर यूआईटी अध्यक्ष रवीन्द्र श्रीमाली, जिला कलक्टर बिष्णुचरण मल्लिक, नगर निगम आयुक्त सिद्धार्थ सिहाग, यूआईटी के विशेषाधिकारी ओ.पी.बुनकर, यूआईटी सचिव रामनिवास मेहता, एमपीयूएटी की रजिस्ट्रार प्रियंका जोधावत सहित सार्वजनिक निर्माण, शिक्षा, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी, वन, एमएलएसयू, सिंचाई, खनिज व नगर विकास प्रन्यास के अधिकारी एवं संबंधित अभियंतागण मौजूद रहे।
गृहमंत्री कटारिया ने कहा कि निर्धारित लक्ष्य के आधार पर नगर विकास प्रन्यास, नगर निगम एवं वन विभाग को 20-20 हजार पौधे लगाएंगे वहीं एमएलएसयू व एमपीयूएटी को मिलकर 15 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य है। साथ ही अन्य संबंधित विभागाेंं को अपने परिसर एवं अपने अधीन कार्यालयों में पौधरोपण करने के निर्देश दिए। शिक्षा विभाग को राजकीय एवं निजी विद्यालयों में पौधरोपण का दायित्व सौंपा गया। इस अभियान में शहर के अन्य निजी महाविद्यालय, नसिर्ंग कॉलेज, रीको एवं अन्य सस्थानों को भागीदारी सुनिश्चित करने की बात कही।
गृहमंत्री कटारिया ने शहर की सड़कों के दोनों और अधिक ऊंचाई वाले आकर्षक वृक्ष लगाने पर जोर दिया। साथ ही यूआईटी एवं नगर निगम द्वारा विकसित पार्कों में सघन पौधरोपण करने के भी निर्देश दिए। गृहमंत्री ने शहर की विभिन्न पहाड़िया रत्नागिरी, रामगिरी, गूगला मगरा, गोवर्धन विलास, सज्जनगढ़, चीरवा की घाटी, बड़ी एवं अन्य आदि पहाड़ी क्षेत्र जिन्हें पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है वहां बड़ी मात्रा में पौधे लगाकर उनके उचित संरक्षण की बात कही।
गृहमंत्री ने कहा कि पौधरोपण कार्यक्रम के दौरान पौधे उपलब्ध कराने का दायित्व वन विभाग का रहेगा। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि पौधरोपण वाले स्थान की भूमि, जलवायु एवं वातावरण के अनुसार पौधे उपलब्ध कराए जाए ताकि उनकी उचित संरक्षण एवं पालन पोषण हो सके।
लगेंगे औषधीय पौधे
बैठक में आयुर्वेद चिकित्साधिकारी डॉ. शोभालाल औदिच्य ने आयुर्वेद विभाग की ओर से 2 हजार हर्बल एवं औषधीय पौधे लगाने की बात कही इस पर गृहमंत्री ने यूआईटी को उपयुक्त स्थल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।
मोहता पार्क को सुन्दर बनाऍ
श्री कटारिया ने कहा कि शहर के बीच मोहता पार्क उदयपुर से गोगुन्दा, कोटड़ा, झाड़ोल या अन्य दूर-सुदूर क्षेत्रों में जाने वाले राहगीरों एवं यात्रियों के आश्रय स्थल है। अतः इसके स्वरूप को निखारने की महती आवश्यकता है। उन्होंने यूूआईटी को पार्क के सौंदर्यीकरण एवं सुदृढ़ीकरण को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।
यूआईटी अध्यक्ष श्रीमाली ने बताया कि गृहमंत्री की मंशानुरूप लेकसिटी के सौंदर्यीकरण को बनाए रखने को लेकर यूआईटी सदैव तत्पर है। उन्होंने सभी विभागों को आपसी सामंझस्य के साथ इस पौधरोपण कार्यक्रम के सक्रिय भागीदारी निभाने की बात कही। उन्होंने यूआईटी द्वारा करवाए जा रहे विकास कार्यों पर प्रस्ताव डाला।
जिला कलक्टर श्री मल्लिक ने सभी विभागों को तय लक्ष्य के आधार पर निर्धारित समयावधि में पौधरोपण कार्य को अंजाम देने की बात कही तथा इस कार्य मेंं प्रशासन की ओर से हर संभव सहयोग देने का आश्वासन दिया। यूआईटी सचिव श्री मेहता ने पिछले वर्ष के हुए पौधरोपण एवं अन्य कार्यों पर प्रकाश डालते हुए सभी का आभार जताया।