मौसम विभाग: अगले 24 घंटों में केरल में दस्तक दे सकता मानसून



भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने सोमवार को जानकारी देते हुए कहा है कि दक्षिण पश्चिम मानसून अगले 24 घंटे के अंदर केरल तट पर दस्तक दे सकता है. मानसून की गतिविधि को देखते हुए उसके पूर्वानुमान अवधि के भीतर पहुंचने की संभावना है.

IMD के हेड डीएस पाई ने बताया कि मानसून के 29 मई तक केरल तट पर पहुंचने की संभावना है. 24 घंटे के भीतर मानसून किसी भी समय केरल आ सकता है. मुख्य भूभाग पर बारिश होने के लिए अच्छी एक्टविटीज देखी जा रही हैं. जिससे अनुमान लगाया जा रहा है कि तट के साथ ही कुछ स्थानों पर मानसून दस्तक दे सकता है. इसको लेकर मौसम विभाग पूरी तरह से संतुष्ट है. इसको देखते हुए मौसम विभाग अगले 24 घंटे में कभी इसकी घोषणा कर सकता है.

वहीं मौसम का पूर्वानुमान लगाने वाली प्राइवेट संस्था क्लाइमेट ने पीटीआई से बात करते हुए दावा किया है कि मानसून आज केरल में दस्तक दे सकता है. केरल में मानसून के आने जैसी स्थितियां बन रही हैं. हम कह सकते हैं कि बारिश का मौसम आ गया है. उन्होंने कहा कि दक्षिण-पश्चिम मॉनसून बादल और बारिश के साथ दक्षिण अंडमान सागर, दक्षिण बंगाल की खाड़ी के कुछ हिस्सों से होते हुए आगे बढ़ गया है.

वहीं मौसम विभाग के अनुसार, बंगाल की खाड़ी में कम दबाव वाला क्षेत्र विकसित हो रहा है. जो धीरे धीरे उत्तर की तरफ बढ़ रहा है. दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के प्रवाह को देखते हुए उसके भूमध्य रेखा को क्रॉस कर आगे बढ़ने की संभावना है. मानसून के आगे बढ़ने के साथ ही अगले 24 से 48 घंटों में लक्षद्वीप, केरल, तटीय कर्नाटक, दक्षिण-आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भारी बारिश होने की उम्मीद है.

मौसम विभाग ने कहा कि साल 2014 में मानसून के आने में देरी हुई थी, जबकि पिछले साल दक्षिण-पश्चिम मॉनसून ने 29 मई को केरल में दस्तक दी थी. दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आने से देश में 70 फीसदी से अधिक बारिश होने की संभावना रहती है. इससे देश की खेती का आधा हिस्सा सिंचाई होता है. मौसम विभाग ने कहा कि लगातार तीसरे साल देश में सामान्य बारिश होने की संभावना है.