मोदी ने कहा- अमीरों को शक की नजर से नहीं देखें, संपत्ति बढ़ेगी तभी उसका वितरण होगा


प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में कहा कि अमीरों को शक की नजर से नहीं देखना चाहिए। वे देश की संपत्ति हैं उन्हें सम्मान देना चाहिए। संपत्ति बढ़ाना एक महान राष्ट्रीय सेवा है क्योंकि जब संपत्ति बढ़ेगी तभी उसका वितरण होगा।

मोदी ने पिछले साल कहा था- उद्योगपति सामाजिक कार्य भी करते हैं

  1. मोदी ने बीते एक साल में तीसरी बार कॉरपोरेट का समर्थन किया है। पिछले साल जुलाई में कहा था कि उन्हें उद्योगपतियों के साथ नजर आने में किसी बात का डर नहीं था क्योंकि, उनकी अंतरात्मा साफ थी। मोदी का कहना था कि उद्योगपति भी देश के विकास में योगदान देते हैं।
  2. पिछले साल अक्टूबर में मोदी ने कहा कि वे इंडस्ट्री और कॉरपोरेट्स की निंदा करने की संस्कृति में भरोसा नहीं करते। उद्योगपति कारोबार के साथ सामाजिक कार्य भी करते हैं।
  3. प्रधानमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी का लक्ष्य भी दोहराया। मोदी ने कहा कि सुधारों की प्रक्रिया जारी रहेगी। इससे देश को ईज ऑफ डूइंग की रैंकिंग में टॉप-50 देशों में शामिल होने में मदद मिलेगी।
  4. मोदी ने जीएसटी और इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) को ग्रोथ में मददगार बताया। साथ ही कहा कि सरकार मॉर्डन पोर्ट्स, हाइवे, रेलवे, एयरपोर्ट, अस्पताल, और शैक्षणिक संस्थानों के निर्माण के लिए 100 लाख करोड़ रुपए का निवेश करेगी।