मोदी ने कहा- सभी सांसदों की संसद में उपस्थिति अनिवार्य; गैरमौजूद रहने का कोई बहाना नहीं चलेगा


भाजपा संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसदों की अनुपस्थिति पर कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने कहा कि सत्र के दौरान संसद से गैरमौजूद रहने का कोई बहाना नहीं है। सभी के लिए जरूरी है कि वे संसद में उपस्थित रहें। प्रधानमंत्री ने संसदीय ड्यूटी से गायब रहने वाले मंत्रियों की लिस्ट भी शाम तक मांगी है। संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने बैठक खत्म होने के बाद यह जानकारी दी। संसदीय दल की बैठक में गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर भी मौजूद थे।

सांसद तय करें कि सरकारी स्कीम आम लोगों तक पहुंचे
जोशी ने बताया कि प्रधानमंत्री ने सांसदों को लोगों से सीधे जुड़ने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सांसदों से यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि सरकारी योजनाओं का लाभ हर नागरिक तक पहुंचे। जोशी ने कहा कि दुनिया में टीबी को खत्म करने का लक्ष्य 2030 का रखा गया है, लेकिन प्रधानमंत्री 2025 तक देश को टीबी मुक्त करना चाहते हैं। उन्होंने सांसदों को इस दिशा में काम करने के निर्देश भी दिए।

राजनीतिक के साथ सामाजिक कार्य से भी जुड़ें सांसद
रिपोर्टर्स से बातचीत के दौरान जोशी ने बताया कि प्रधानमंत्री ने सांसदों को राजनीति से हटकर सामाजिक कार्यों से जुड़ने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा कि सांसदों को अधिकारियों के साथ जुड़कर सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुंचाने के लिए काम करना चाहिए।

इससे पहले 14 जुलाई को भाजपा ने अपने लोकसभा और राज्यसभा सांसदों को बैठक की जानकारी देते हुए इसमें अनिवार्य रूप से मौजूद रहने की बात कही थी।