छोटे से गांव के इस घर में रहती है मोदी से साथ अमेरिका में सम्मानित हुई पायल, घरवाले बचपन में ही करना चाहते थे शादी


अलवर. जिले के छोटे से गांव हिंसल की पायल जांगीड़ को मंगलवार को अमेरिका में चेंज मेकर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। बिल गेट्स फाउंडेशन द्वारा उन्हे सम्मानित किया गया। इसी कार्यक्रम में पीएम मोदी को भी ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। पायल को ये अवॉर्ड राजस्थान में बाल विवाह और बाल श्रम जैसी सामाजिक बुराइयों के खिलाफ आवाद बुलंद करने के लिए दिया गया। जिसकी नोबल प्राइज विजेता कैलाश सत्यार्थी ने भी तारीफ की।

पायल जांगीड़ अलवर के थानागाजी के पास हिंसल गांव की की रहने वाली है। जो फिलहाल महज 17 साल की हैं। उनके पिता पप्पू जांगीड़ खाती का काम करते हैं। वहीं मां गृहणी है। जानकारी अनुसार, पायल के घरवाले बचपन में भी उसकी शादी करना चाहते थे, लेकिन पायल ने ऐसा करने से मना कर दिया। जिसके बाद उन्होंने बाल विवाह के खिलाफ मुहीम चलाई। जिसका धीरे-धीरे पूरे राजस्थान में असल देखने के लिए मिला।

कैलाश सत्यार्थी के बचपन बचाओ आंदोलन से जुड़ी
पायल ने अपने गांव में कैलाश सत्यार्थी के बचपन बचाओ आंदोलन के तहत बाल मित्र ग्राम कार्यक्रम में बनाई गई बाल परिषद में बाल पंचायत प्रमुख के तौर पर काम किया। जिसके बाद कैलाश सत्यार्थी ने अपने एक लेक में पायल के काम की जमकर सराहना भी की। इसके साथ पायल ने बच्चों के अधिकार और शिक्षा के लिे काम करने वाली संस्था द वल्डर्स चिल्ड्रन प्राइज के लिए जूरी सदस्य के रूप में भी काम किया।

पायल को अवॉर्ड मिलने पर कैलाश सत्यार्थी ने लिखा कि सुमेधा जी और मुझे गर्व है कि हमारी बेटी पायल को न्यूयॉर्क में बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की ओर से चेंजमेकर अवार्ड दिया गया है। उसने अपनी शादी से इनकार कर दिया और उसका पूरा गांव बाल विवाह और श्रम से मुक्त हो गया।