गर्भवती स्त्री ऐसे रखे अपना ध्यान



गर्भवती होना हर महिला का सपना होता है, एक स्त्री तभी पूर्ण होती है जब वह माता बनती है विवाह के बाद हर महिला मातृत्व सुख प्राप्त चाहती है तथा वह भी किसी बच्चे को जन्म देना चाहती है. इसी विषय में वास्तु शास्त्र में बताया गया है की गर्भवती स्त्री को अपना किस प्रकार ध्यान रखना चाहिए और अपने आस -पास किन वस्तुओं को रखना चाहिए. तथा इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए की अपने होने वाले शिशु पर वातावरण में व्याप्त नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव न पड़े क्योकि गर्भस्त शिशु पर उसकी माता का प्रभाव सबसे अधिक होता है. आइये जानते है की वास्तु शास्त्र के वह कौन से उपाय है जो किसी भी गर्भवती स्त्री को अपनाना हितकर हो सकता है.

यदि गर्भवती स्त्री के कमरे में गुलाबी रंग की कोई तस्वीर लगी होती है तो इससे उसका मन प्रसन्न रहता है क्योकि गुलाबी रंग ख़ुशी का प्रतीक माना जाता है. इसी प्रकार सफ़ेद रंग शांति और स्वास्थ का प्रतीक माना जाता है गर्भवती स्त्री के कमरे में यदि सफ़ेद रंग की कोई वस्तु या फिर कोई सजावट की चीज रखना माता और बच्चे दोनों के लिए उचित होता है.

मोर पंख को बहुत ही शुभ माना जाता है इसका उल्लेख हमारे शास्त्रों में भी किया गया है यदि किसी गर्भवती महिला के कमरे में मोर पंख रखा जाता है तो वह बहुत ही शुभ होता है आप मोर पंख को नवजात शिशु के कमरे में भी रख सकते है.

गर्भवती स्त्री को अपने कमरे में तांबे की कोई भी वस्तु रखना चाहिए यह किसी भी प्रकार की बुरी नजर से गर्भवती स्त्री और उसके होनेवाले शिशु की रक्षा करता है और कमरे की सकारात्मक ऊर्जा के प्रभाव को भी बढ़ाता है.