मुख्यमंत्री की ओर से अजमेर दरगाह में चादर पेश


प्रदेश में अमन-चैन और खुशहाली की दुआ मांगी
जयपुर। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की ओर से महान सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के 806वें उर्स के अवसर पर अजमेर दरगाह में उनकी मजार पर शनिवार को चादर पेश की गई।
मुख्यमंत्री की ओर से शिक्षा राज्य मंत्री श्री वासुदेव देवनानी, राज्य हज कमेटी के चेयरमैन श्री अमीन पठान, संसदीय सचिव श्री सुरेश रावत, मदरसा बोर्ड की अध्यक्ष मेहरूनिसा टांक सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने ख्वाजा साहब के दरबार में यह चादर पेश कर प्रदेश में अमन-चैन और खुशहाली की दुआ मांगी तथा अकीदत के फूल पेश किए। दरगाह पहुंचने पर समस्त गणमान्य नागरिकों का स्वागत कर दस्तारबंदी की गई।
हज कमेटी के चेयरमैन श्री अमीन पठान ने बुलन्द दरवाजे पर मुख्यमंत्री श्रीमती राजे का पै़गाम पढ़कर सुनाया।
इससे पहले श्रीमती राजे ने मुख्यमंत्री निवास से चादर रवाना करते हुए देश-विदेश से अजमेर आने वाले तमाम जायरीनों और प्रदेशवासियों को 806वें उर्स की मुबारकबाद दी। खादिम सैयद अफशान चिश्ती ने मुख्यमंत्री को हिफाजत का धागा बांधा और तबर्रूक भेंट किया।
इस अवसर पर वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन श्री सलावत खान, स्टेट हज कमेटी के पूर्व चेयरमैन श्री फिरोज खान तथा अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य श्री मुनव्वर खान, मदरसा बोर्ड के सदस्य श्री यूनुस चौपदार, मजीद मलिक कमाण्डो, बी. पी. सारस्वत एवं धर्मेश जैन सहित अन्य गणमान्य जन उपस्थित थे।