प्रोड्यूसर गुनीत मोंगा ने आईफोन से की फिल्म की शूटिंग, गिनाए गुरिल्ला स्टाइल शूट के फायदे


प्रोड्यूसर गुनीत मोंगा ने अपनी अपकमिंग शॉर्ट फिल्म गुरिल्ला स्टाइल में शूट की है। उन्होंने शूट में यूज होने वाले प्रॉपर डिजिटल मूवी कैमरे की बजाय आईफोन का यूज किया है। इसकी मदद से उन्हें अमृतसर के भीड़भाड़ वाले इलाके में गुपचुप शूट करने में आसानी हुई। इस फिल्म का टाइटल ‘छज्जो के दही भल्ले’ है।  इसकी शूटिंग अमृतसर के स्वर्ण मंदिर के आसपास की गई है। गौरतलब है कि ऑस्कर 2019 में गुनीत की डॉक्युमेंट्री ‘पीरियड : एंड ऑफ सेंटेंस’ को बेस्ट डॉक्युमेंट्री शॉर्ट सब्जेक्ट का अवॉर्ड मिला था।

‘छज्जो के दही भल्ले’ में मनजोत सिंह की मुख्य भूमिका

इस फिल्म को गौतम गोविंद शर्मा डायरेक्ट कर रहे हैं। ‘फुकरे’ और ‘ड्रीम गर्ल’ फेम मनजोत सिंह के साथ आएशा अहमद इसमें मुख्य भूमिका में हैं। कैमरे की बजाय आईफोन के इस्तेमाल को बढ़ावा देने की गुनीत की अपनी वजह है। इससे गुरिल्ला स्टाइल में शूट करना आसान हो जाता है। साइट पर परमिशन वगैरह लेने की झंझट नहीं होती। भारी भरकम इक्विपमेंट ढोने की समस्या से निजात मिल जाती है।

इस तरह की स्टाइल में आमतौर पर डॉक्युमेंट्री शूट होती है। फिल्मों में आईफोन से शूट का चलन हाल में शुरू हुआ है। इससे ढेर सारी कॉम्पलिकेशन दूर हो जाती है। जैसे सेट पर शूट की इजाजत लेने की औपचारिकताओं से मुक्ति मिल सकती है।

गुनीत मोंगा, प्रोड्यूसर

क्या है गुरिल्ला फिल्ममेकिंग

गुरिल्ला स्वतंत्र फिल्म निर्माण की एक विधा है, जिसके तहत कम बजट, कम से कम क्रू और उपलब्ध संसाधनों के साथ शूटिंग की जाती है। इसमें अक्सर सीन की शूटिंग वास्तविक लोकेशन पर बिना इजाजत और बिना शूटिंग परमिट के जल्दी से कर ली जाती है। फिल्म निर्माण की इस विधा का इस्तेमाल ज्यादातर स्वतंत्र फिल्मकार करते हैं, क्योंकि उनके पास न ज्यादा बजट , न इजाजत लेने का वक्त, न लोकेशन का किराया और न ही महंगे सेट बनाने का पैसा होता है।