पीएम इमरान को देने के लिए अजगर के चमड़े वाली सैंडल बनाई, 50 हजार जुर्माना भरना पड़ा


पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को ईद पर तोहफा देने के लिए एक शू मेकर ने अजगर के चमड़े वाली एक जोड़ी सैंडल बनाई, लेकिन देने के पहले ही उस पर कार्रवाई हो गई। खैबर पख्तूनख्वा वन्यजीव विभाग के अधिकारियों ने पेशावर के जहांगीरपुरा बाजार में स्थित शू मेकर नूरुद्दीन की दुकान पर छापा मारा और सैंडल को जब्त कर लिया। विभाग ने वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत कार्रवाई की और 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। नूरुद्दीन ने मीडिया से कहा, “जुर्माना भरने के बाद मुझे सैंडल मिल गई हैं। अब इन्हें पीएम को भेंट कर सकूंगा।” रिपोर्ट के मुताबिक, जब्त की गई सैंडल को पेशावर में ‘कप्तान स्पेशल चप्पल’ कहा जाता है।

सैंडल की सामग्री अमेरिका से आई थी

  1. नूरुद्दीन ने बताया कि हमारे पास दो जोड़ी सैंडल तैयार करने का ऑर्डर था। सामग्री अमेरिका से दुकान पर भेजी गई थी। एक जोड़ी सैंडल प्रधानमंत्री इमरान खान के लिए थी। हालांकि, नूरुद्दीन अधिकारियों को सामग्री को आयात करने का कोई सबूत नहीं दे पाया।
  2. सैंडल को जब्त करने के लिए जिला वन अधिकारी (डीएफओ) एक ग्राहक बनकर रविवार को दुकान पर गए। उन्होंने पेशावरी सैंडल दिखाने की मांग की। बातों-बातों में शिनवारी ने अजगर की स्किन से बनी सैंडल दिखा दी, जिन्हें डीएफओ ने जब्त कर लिया। कार्रवाई के बाद सैंडल को टेस्टिंग लैब भेज दिया गया।
  3. टेस्ट में सैंडल अजगर की स्किन से बनी पाई गई। सोमवार को जुर्माना लगाने और हलफनामे पर दस्तखत लेने के बाद सैंडल वापस की गई। वन्यजीवों की स्किन का इस्तेमाल न करने की चेतावनी भी दी गई।
  4. पाकिस्तान के वन्यजीव अधिनियम, 2015 के तहत सांपों की बिक्री और खरीद करना अवैध है। अधिनियम के अनुसार, किसी को भी बिना लाइसेंस के किसी भी जंगली या विदेशी जानवर (जीवित या मृत) को अपने पास रखने की अनुमति नहीं है।
  5. इस मामले में खैबर पख्तूनख्वा के पर्यावरण मंत्री इश्तियाक उरमुर ने कहा,‘‘कोई फर्क नहीं पड़ता कि सैंडल किसके लिए बने हैं? यह एक गैरकानूनी कृत्य है। इसे कभी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।’’