राहुल का कांग्रेस अध्यक्ष बनना लगभग तय, कांग्रेस के कई बड़े नेता रहेगें उपस्थित

Mumbai: Congress Vice-President Rahul Gandhi addressing a party meeting at Malad in Mumbai on Friday. PTI Photo by Santosh Hirlekar(PTI1_15_2016_000274A)


कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष पद के लिए अपना नामांकन पत्र भर दिया जिससे देश की इस सबसे पुरानी पार्टी में शीर्ष पद पर बदलाव की प्रक्रिया शुररू हो गयी और इसे 2019 के आम चुनाव से पहले पार्टी में प्राण फूंकने की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है. इस पद की जिम्मेदारी पिछले 19 साल से उनकी मां सोनिया गांधी संभाल रही हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव में नामांकन पत्र दाखिल करने की सोमवार को अंतिम तिथि थी. इसकी निर्धारित अवधि बीत जाने के बाद पार्टी के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के अध्यक्ष एम रामचंद्रन ने संवाददाताओं को बताया कि अध्यक्ष पद के लिए कुल 89 नामांकन पत्रों के सेट दाखिल किये गये. रामचंद्रन ने इस सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया कि क्या राहुल गांधी के अलावा भी किसी अन्य उम्मीदवार के पक्ष में नामांकन पत्र भरा गया है. उन्होंने कहा कि अध्यक्ष पद के लिए नामांकन पत्रों की जांच करने के बाद मंगलवार को ही यह पता चल पायेगा कि कुल कितने उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र भरे हैं.

राहुल के नामांकन पत्र दाखिल करने के समय पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा, अंबिका सोनी तथा कांग्रेस शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, नारायण सामी तथा कई पूर्व मुख्यमंत्री, कई राज्यों के पीसीसी प्रमुख भी मौजूद थे. राहुल का नाम प्रस्तावित करनेवालों में शामिल निवर्तमान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस अवसर पर उपस्थित नहीं थीं. पार्टी सूत्रों के अनुसार इस चुनाव में राहुल ही एकमात्र उम्मीदवार होंगे.

नामांकन पत्र भरने से पहले राहुल ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की और उनका आशीर्वाद लिया. नेहरू-गांधी खानदान के सदस्य 47 वर्षीय राहुल के बारे में माना जा रहा है कि वह इस चुनाव में एकमात्र उम्मीदवार हैं. साथ ही उनके द्वारा अपनी मां से पार्टी की कमान संभाले जाने के बारे में तस्वीर मंगलवार तक साफ होने की संभावना है. सोनिया पिछले 19 साल से पार्टी की कमान संभाल रही हैं. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन ने अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के मुख्यालय पर संवाददाताओं से कहा, राहुलजी कांग्रेस के पसंदीदा रहे हैं. उन्होंने कहा, कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी ने कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस पार्टी के जरिये देश की पिछले 19 साल तक सेवा की है. यह उसी दिशा में एक और कदम है. राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी की महान संभावनाओं को आगे बढ़ायेंगे. राहुल आज सुबह करीब साढ़े दस बजे कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे और उन्होंने करीब 11 बजे अपना नामांकन पत्र भरा. कांग्रेस के शीर्ष नेताओं ने उनकी ओर से नामांकन पत्रों के पांच सेट भरे.

नामांकन पत्र के पहले सेट में उनके नाम का प्रस्ताव करनेवालों में सोनिया गांधी, मोतीलाल वोरा, अहमद पटेल, मोहसिना किदवई, कमल नाथ, अशोक गहलोत, मुकुल वासनिक, शीला दीक्षित, तरुण गोगोई एवं पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी शामिल हैं. नामांकन पत्र के दूसरे सेट में मनमोहन सिंह, आॅस्कर फर्नांडीस, पी चिदंबरम, सुशील कुमार शिंदे, आनंद शर्मा, ज्योतिरादित्य सिंधिया, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा शामिल हैं.

पार्टी के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के सदस्य मधुसूदन मिस्त्री ने भाजपा नेताओं द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में वंशवाद के आरोपों को लेकर पूछे गये सवालों के जवाब में संवाददाताओं से कहा कि भाजपा को यह बताना चाहिए कि उसके अध्यक्ष का चुनाव कैसे होता है? उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी है. इस प्रक्रिया को पूरा करने में पूरे तीन माह का समय लगा.

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा कि गुजरात चुनाव प्रचार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उनके मंत्रिमंडल के विभिन्न सदस्य केवल राहुल गांधी पर प्रहार कर रहे हैं. इससे पता चलता है कि वे राहुल के पार्टी अध्यक्ष बनने को लेकर कितने बौखलाये हुए हैं. कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में नामांकन पत्रों की मंगलवार को जांच की जायेगी. नामांकन पत्र वापस लेने की अंतिम तारीख 11 दिसंबर है. यदि आवश्यकता पड़ी तो 16 दिसंबर को मतदान करवाया जायेगा और मतगणना 19 दिसंबर को करवायी जायेगी.