विकास एवं कल्याणकारी योजनाओं से राजस्थान अग्रणी राज्यों में शुमार -गृहमंत्री



जयपुर। गृहमंत्री श्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि राज्य सरकार ने विकास एवं आमजन के कल्याण को लेकर कई महत्वाकांक्षी योजनाओं से राजस्थान को देश के अग्रणी राज्यों की पंक्ति में ला खड़ा किया है।
यह पहली सरकार है जिसने अपने 4 सालों के दौरान पं्रतिवर्ष विकास का लेखा-जोखा जनता के बीच रखकर सभी के सहयोग से पारदर्शिता से लोक दायित्वों को निभाने का कार्य किया है। हमें विश्वास है कि हम आगे भी जनता की हर उम्मीद पर पूरी तरह खरा उतरेंगे।
श्री कटारिया शनिवार को उदयपुर के महाराणा भूपाल स्टेडियम पर सरकार के कार्यकाल के 4 वर्ष पूर्ण होने पर आयोजित जिला स्तरीय समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।
गृहमंत्री ने कहा कि सुराज संकल्प यात्रा के दौरान जिन वादों के साथ हमने सरकार बनाई थी पिछले चार वर्षों मे न केवल उन वादों को पूरा किया बल्कि कई ऎसी नई योजनाएं भी बनाई, जिनके बेहतर परिणाम को देखते हुए अन्य राज्यों में भी उनका अनुसरण किया गया।
केन्द्र सरकार के साथ बेहतर तालमेल के चलते राज्य में विकास योजनाओं को धनराशि की कमी से नहीं जूझना पड़ा। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे के कुशल नेतृत्व में राज्य ने विकास के नये आयाम स्थापित किये है एवं बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर निकलते हुए अग्रणी राज्यों की श्रेणी में अपना स्थान बनाया है। राज्य सरकार  ने अपनी योजनाओं में समाज के हर तबके का विशेष ध्यान रखा है। श्री कटारिया ने कहा कि विकास रूपी गंगा का लाभ मेवाड़ क्षेत्र को भी मिला है और पिछले 4 वर्षों में यहां कई ऎतिहासिक विकास कार्य हुए हैं।
किसानों की हितैषी सरकार
श्री कटारिया ने कहा कि राजस्थान में अनावृष्टि और अतिवृष्टि की मार से आम तौर पर त्रस्त रहने वाले गरीब किसान को सरकार ने संबल प्रदान करते हुए राज्य के 65 लाख किसानों को 181 करोड़ का मुआवजा सीधे खाते में जमा कर एक मिसाल कायम की है। साथ ही पूर्व में 50 फीसदी खराबे पर दिये जाने वाले मुआवजे को अब 33 फीसदी आधार मानकर देना भी किसान के प्रति संवेदनशील सोच को जाहिर करता है।
भामाशाह स्वास्थ बीमा से मिला सम्बल
श्री कटारिया ने कहा कि प्रदेश में महती भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना राज्य में जन-जन की कल्याणकारी योजना साबित हुई है। उन्होंने कहा कि राज्य की 60 फीसदी से अधिक आबादी को निःशुल्क स्वास्थ्य एवं उपचार सेवाओं का लाभ मिलना भी देशभर में अनूठा उदाहरण है।
गृहमंत्री ने कहा कि प्रदेश में शिक्षा के नवीन आयाम स्थापित हुए हैं। उन्होंने बताया कि कौशल विकास एवं स्वच्छ भारत मिशन के क्षेत्र में राज्य ने श्रेष्ठ उपलब्धि अर्जित की है। उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार के समग्र अवसर उपलब्ध कराने के लिए भी सरकार ने ठोस कदम उठाएं हैं। श्री कटारिया ने राज्य में भ्रष्टाचार व अपराधों पर प्रभावी अंकुश, बेहतर रोड नेटवर्क, खाद्य सुरक्षा, विद्युत सुधार आदि उपलब्धियां भी गिनाई।
विकास में सिरमौर बन रहा उदयपुर
श्री कटारिया ने कहा कि पर्यटन एवं औद्योगिक नगरी उदयपुर को विकास के क्षेत्र में श्रेष्ठतम बनाने के लिए सरकार ने महत्वपूर्ण निर्णय किये हैं। उदयपुर का जहां स्मार्ट सिटी के रूप में 20 शहरों में चयन हुआ वहीं अमृत योजना, राष्ट्रीय झील संरक्षण योजना, खेलगांव की स्थापना, बर्ड पार्क, एलिवेटेड रोड एवं अन्य विकास एवं सौंदर्यीकरण के कार्यों से शहर विश्व के श्रेष्ठतम शहरों में शुमार होगा।
संकल्पबद्धता से जिले का विकास-प्रभारी मंत्री
जिला प्रभारी मंत्री श्री धनसिंह रावत ने कहा कि संकल्पबद्ध होकर जिले के विकास की कार्ययोजना बनाकर उसे बेहतरीन ढंग से क्रियान्वित करने पर एकजुट प्रयास किए जा रहे हैं। जिसमें जनप्रतिनिधि, समाजसेवी एवं प्रशासनिक तबके का सराहनीय योगदान शामिल है। उन्होंने कहा कि आयड़ विकास उदयपुर शहर के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओं के सुधार के लिए भावी विकास कार्यों पर भी चर्चा की। उन्होंने बताया कि करीब सवा करोड़ रुपये आरएनटी मेडिकल कॉलेज पर व्यय होंगे। जिसमें उदयपुर के महाराणा भूपाल चिकित्सालय में एक करोड़ की लागत से स्वाइन फ्लू आईसीयू तथा 30 लाख रुपये लागत से एचडी डायलिसिस मशीन की स्थापना की जाएगी। साथ ही उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा उपायों के लिए स्पेशल सेल स्थापित करने की बात कही।
केन्द्रीय योजनाओं ने लगाए विकास को पंख
उदयपुर सांसद अर्जुनलाल मीणा ने कहा कि भारत सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं को जिले को विकास के क्षेत्र में अग्रणी बनाया है वहीं आमजन को अथाह सम्बल मिला है। उन्होंने विभिन्न योजनाओं के तहत उनके संसदीय क्षेत्र में हुए विकास कार्यों की विस्तार से चर्चा की। जिसमें पासपोर्ट केन्द्र, रेल सुविधाएं, राष्ट्रीय राजमार्ग का विस्तार आदि का जिक्र किया।
समारोह में उदयपुर मेयर चन्द्र सिंह कोठारी ने शहर में समुचित पार्किंग स्थल, पुलियाओं, सीवरेज, पेयजल, फायर ब्रिगेड, झील संरक्षण तथा नगर विकास प्रन्यास अध्यक्ष रवीन्द्र श्रीमाली ने शहर के विस्तार की चर्चा करते हुए कहा कि 14 करोड़ की लागत से बलीचा-प्रतापनगर सड़क को चौड़ा करने का कार्य आगामी 2-3 माह में पूरा हो जाएगा वहीं सुगम यातायात के लिए 12 करोड़ के पुलिया एवं अंडरब्रिज के कार्य प्रगति पर हैं।
समारोह में विधायकगण नानालाल अहारी, फूलसिंह मीणा, दलीचंद डांगी, अमृतलाल मीणा, प्रतापलाल भील ने अपने अपने क्षेत्र में 4 साल के दौरान हुए विभिन्न विकास कार्यों की विस्तार से चर्चा करते हुए क्षेत्र के समग्र विकास का संकल्प दोहराया। प्रारंभ में जिला कलक्टर बिष्णुचरण मल्लिक ने जिले के विकास पर विस्तार से चर्चा करते हुए अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम का प्रभावी संचालन आकाशवाणी के उद्घोषक राजेन्द्र सेन एवं श्रीमती सीमा चम्पावत ने किया। आरंभ में अधिकारियों ने उपरना एवं बुके से अतिथियों का स्वागत किया।
लाभार्थियों को उपकरण, स्वीकृति पत्र, चैक एवं स्कूटी-लैपटॉप
समारोह के दौरान अतिथियों के हाथों विभिन्न योजनाओं अंग उपकरण सहायता, सहयोग एवं उपहार योजना, सहकार किसान कल्याण योजना, स्वरोजगार योजना, मृतक आश्रित सहायता, राजश्री योजना, भामाशाह, एनयूएलएम, पोप, मुद्रा, पीएमईजीपी, भामाशाह रोजगार सृजन योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन, मुख्यमंत्री स्वावलंबन, श्रमिक कल्याण योजनाओ, पशुधन योजनाओं आदि के लाभान्वितों को स्वीकृत राशि के चैक, कृषि उपकरण, वनाधिकार पट्टे, प्रतिभावान विद्यार्थियों को लेपटॉप, स्कूटी आदि का वितरण किया गया।