राजस्थान की युवती का अपहरण, मध्यप्रदेश में बंधक बनाकर गैंगरेप; आरोपी गिरफ्तार


मध्यप्रदेश सीमा से महज 2 किमी दूर मोरझरी गांव में शाैच करने निकली युवती के मुंह में कपड़ा ठूंसकर उसे अगवा कर लिया गया। इसके बाद युवती को एमपी ले जाकर बंधक बनाकर ज्यादती की गई। मौका पाकर युवती 7 किमी भागकर झांबुआ अपने चाचा के पास पहुंची और आपबीती सुनाई। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने एमपी जाकर मौके से बांजना के पीठ निवासी नानूराम पुत्र दीता भील को गिरफ्तार किया है। वारदात में शामिल बापूलाल समेत तीन अन्य को डिटेन किया है, जिनमें से 2 किशोर हैं। गौरतलब है कि दैनिक भास्कर ने गुरुवार को ही युवती के साथ एमपी में सामूहिक ज्यादती होने का खुलासा कर दिया था लेकिन पाटन पुलिस मामले में कुछ बताने से बचती नजर आई।

वारदात 15 जुलाई रात 11 बजे की है। युवती शाैच करने के लिए घर से बाहर निकली। तभी आरोपी बापूलाल 3 साथियों के साथ आया और युवती के मुंह में कपड़ा ठूंसकर जबरन पिकअप में डाल दिया। जंगल में युवती से नानूराम और अन्य ने ज्यादती की। इसके बाद वह उसे एमपी के गांव पीठ ले गया और एक कमरे में बंद कर दिया, जहां रातभर उसे रखा और ज्यादती की। अगली सुबह मौका मिलते ही युवती भाग निकली। जहां से पैदल ही करीब 7 किमी चलकर बांजणा में चाचा के पास पहुंची और आपबीती सुनाई। इधर, बेटी के अचानक लापता हो जाने से परेशान परिजन पाटन थाने पहुंचे और गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

पीड़िता बोली- सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस- जांच बाद कुछ कहेंगे
पुलिस मामले में सामूहिक दुष्कर्म को फिलहाल नहीं मान रही। डिप्टी रतनलाल चावला ने बताया कि पीड़िता ने दी रिपोर्ट में सामूहिक दुष्कर्म बताया है लेकिन शुरुआती जांच में नानूराम को गिरफ्तार किया है। बाकि तीन को डिटेन किया है। शुक्रवार को कोर्ट में 164 के बयान होने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।