एसबीआई ने ज्वैलर्स को कर्ज देना शुरू किया, डिजिटल बैंकिंग पर फोकस


बैंकों से कर्ज नहीं मिलने परेशान ज्वेलर्स को एसबीआई ने लोन देना शुरू कर दिया है। हालांकि, बैंक ने ज्वेलर्स को कर्ज देने की नीति में बदलाव किया है। जयपुर दाैरे पर आए एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार ने बुधवार को यह जानकारी दी।

पिछले साल फरवरी में नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के 13,000 करोड़ रुपए से अधिक के पीएनबी फ्रॉड के बाद लगभग सभी बैंकों ने ज्वेलर्स को लोन देना बंद कर दिया था। इसके चलते ज्वेलरी निर्यातकों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ा था।

रजनीश कुमार ने बताया कि एसबीआई ज्वेलर्स से लगातार बातचीत कर उनकी समस्याओं को जानने की कोशिश कर रहा है। पुराने अनुभव को देखते हुए ज्वेलर्स को कर्ज देने की नीति में छह महीने पहले बदलाव किया गया है, ताकि बैंक को ऐसे कर्ज देने में नुकसान नहीं हो। जो ज्वैलर बैंक के मापदंडों पर सही उतर रहा है, उनको कर्ज दिया जा रहा है।

एसबीआई के जयपुर मंडल के मुख्य महाप्रबंधक रविंद्र पांडेय ने बताया कि पिछले दिनो जैम एंड ज्वेलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल भी एक प्रतिनिधि मंडल के साथ उनसे मिले थे। कर्ज को लेकर कोई समस्या हो तो ज्वेलर्स उनसे मिल सकते हैं।

एक लाख तक का मुद्रा लोन भी ऑनलाइन
एसबीआई चेयरमैन ने बताया कि एक लाख योनो एप प्लेटफार्म पर एक लाख रुपए तक का मुद्रा लोन ऑनलाइन देने की योजना है। जल्द ही इस दिशा में कदम बढ़ाया जाएगा। वहीं, वाहन बिक्री में गिरावट से परेशान ऑटो डीलर्स को कर्ज की किस्त चुकाने के लिए 15 से 30 दिन का अतिरिक्त समय दिया जा रहा है। छोटे उद्योगों को अधिक कर्ज मुहैया कराने की योजना है। पिछले साल एमएसई कर्ज में 3% की ग्रोथ हुई थी। इसको बढ़ाया जाएगा।

किसानों को ऑनलाइन गोल्ड लोन
रजनीश कुमार ने बताया कि डिजिटल बैंकिंग को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से किसानों को सोने के बदले योनो कृषि एप के माध्यम से ऑनलाइन ऋण मंजूर किया जा रहा है। ऑनलाइन ऋण लेने वाले किसानों को ब्याज में 0.25 फीसदी की अतिरिक्त छूट दी जा रही है। राजस्थान के तीन सौ लाभार्थियों को 6 करोड़ रुपए के गोल्ड लोन मंजूर किए गए है।

बुधवार को तीन कर्जदारों को ऋण के चेक सौंपे गए। उन्होंने बताया कि योनो कृषि गोल्ड लोन एप से ऑनलाइन गोल्ड लोन आवेदन किया जा सकता है। ऋण स्वीकृति के बाद बैंक शाखा में सोना लेकर जाना पड़ता है। इसके बाद कागजी कार्यवाही कर ऋण वितरित किया जाता है। उन्होंने बताया कि योनो मंडी एप से उचित मूल्य पर खाद, बीज, कीटनाशक, कृषि उपकरण इत्यादि ऑनलाइन खरीद की जा सकती है। योनो मित्र एप के माध्यम से किसान भाई फसलों के दैनिक बाजार भाव, उतार-चढ़ाव, कोल्ड स्टोरेज, बीज, मिट्टी के परीक्षण के लिए प्रयोगशाला, फसलों जानकारी ले सकते हैं।

नेत्रहीनों को सहायता

भारतीय स्टेट बैंक के प्रधान कार्यालय में आयोजित समारोह में रजनीश कुमार ने सामाजिक सेवा उत्तरदायित्व के तहत आई बैंक सोसाइटी को नेत्रहीनों के कल्याणा के लिए 10 लाख रुपए की सहायता राशि का चेक प्रदान किया। संस्था को नेत्रहीनों का पुनर्वास करेगी।