सेवा का पर्याय है स्काउट-गाइड – राज्यपाल



जयपुर। राज्यपाल श्री कल्याण िंसंह ने कहा है कि स्काउट – गाइड संगठन सेवा की भावना पैदा करता है। कठिन हालातों में साहस के साथ चुनौतियों से मुकाबला करने की शिक्षा देता है। इससे समाज में सद्भाव व सहयोग का वातावरण बनता है और राष्ट्र को मजबूती मिलती है। उन्होंने कहा कि स्काउट-गाइड सेवा का पर्याय है।
राज्यपाल श्री सिंह शनिवार को यहां जगतपुरा स्थित स्काउट-गाइड मुख्यालय में आयोजित राज्य पुरस्कार समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। स्काउट-गाइड द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी को राज्यपाल श्री सिंह ने देखा।
श्री सिंह ने कहा कि इस संगठन का उद्देश्य युवा पीढ़ी को सुसंस्कारित बनाना है। बचपन से ही बच्चों को अच्छे संस्कार दिये जायें तो हमारे देश का भविष्य उज्ज्वल बनेगा। छोटी-छोटी बेटियों का प्रदर्शन सराहनीय रहा है। गीत गाकर इन्होंने हमारे मन को छू लिया है। इनका गीत प्रेरणादायक है। बेटिया हमारे आंगन की मणि हैं। उनकी शिक्षा पर पूरा ध्यान दें। राष्ट्र व समाज को सशक्त बनाने के लिए बेटियों को आगे बढ़ाना होगा।
        समारोह में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता कल्याण मंत्री श्री अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि चरित्र निर्माण व स्वावलम्बन का उद्देश्य स्काउट-गाइड संगठन पूरा कर रहा है। प्रदेश में जरूरत के वक्त स्काउट-गाइड सेवा के लिए अग्रिम पक्िंत में सदैव खडे़ रहते हैं। स्काउट-गाइड संगठन अनवरत सेवा के लिए प्रेरित करता है।
    स्टेट चीफ कमिश्नर श्री जे.सी.महान्ति ने स्वागत उद्बोधन दिया। स्टेट कमिश्नर श्री भास्कर ए. सांवत ने आभार ज्ञापित किया। समारोह में राज्यपाल के विशेषाधिकारी डॉ. अजय शंकर पाण्डेय भी मौजूद थे। समारोह में पहुॅचने पर राज्यपाल को स्काउट-गाइड द्वारा गार्ड ऑफ ऑनर प्रस्तुत किया। राज्यपाल ने भामाशाहों  को सम्मानित किया और स्काउट-गाइड को प्रमाण-पत्र प्रदान किये। इस मौके पर राजस्थान के सभी संभागों के छात्र-छात्राओं के दल द्वारा स्वागत गीत और लोक नृत्य प्रस्तुत किये गये।