प्रदेश के छह बड़े बांध अाेवरफ्लाे, कई इलाकाें में सेना ने संभाला माेर्चा


मध्यप्रदेश अाैर राजस्थान में जारी भारी बारिश ने जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया। चंबल सहित कई नदिया उफान पर है। रविवार काे मध्यप्रदेश में स्थित गांधी सागर बांध के सभी गेट खाेल दिए गए। इसके अलावा काेटा बैराज, राणाप्रताप सागर, जवाहर सागर, माही बजाज बांध में लगातार पानी की अावक हाेने से सभी गेट खाेलने पड़े है। वहीं त्रिवेणी में लगातार पानी की अावक बढ़ने से बीसलपुर के 18 में से 17 गेट खाेलने पड़े। काेटा, बेंगू, चित्ताैड़गढ, झालावाड़ में बाढ़ के हालात बने हुए है। इन इलाकाें में सेना अाैर एनडीअारएफ ने माेर्चा संभाला रखा है। राजधानी जयपुर में सितम्बर की सबसे अच्छी बारिश रविवार काे हुई। सुबह से शुरू हुअा बारिश का दाैर दाेपहर तक चलता रहा। जयपुर में इस सीजन में अब तक 746 मिमी बारिश हाे चुकी है।

मध्यप्रदेश में हो रही लगातार बारिश के चलते 13 साल बाद कोटा बैराज के सभी 19 गेट खाेलने पड़े। कोटा बैराज से रविवार काे 7 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया, इससे चंबल किनारे बसी निचली बस्तियां जलमग्न हो गई। सेना, एनडीआरएफ अाैर नगर निगम की टीमाें ने करीब 500 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। भारी बारिश के चलते गांधीसागर का अधिकतम जलस्तर 1312 की तुलना में 1318 फीट को पार कर गया। राणा प्रताप सागर बांध 1157.50 की तुलना में 1159 तक पहुंच गया। राणा प्रताप सागर बांध के खुलने से पनबिजलीघर में पानी भर गया। जिससे बिजली उत्पादन भी बंद हो गया। इससे राजस्थान को अतिरिक्त बिजली मिलना बंद हो गई। राणा प्रताप सागर से पानी छोड़ने के बाद जवाहर सागर, कोटा बेराज के भी गेट खोलने पड़े। बेगूं में रविवार काे 6 इंच बारिश से बाढ़ के हालात बन गए। बेगूं से भीलवाड़ा, कोटा, रावतभाटा, चंबल डेम आदि मार्ग दोपहर तक बंद रहे। बेगूं में अब तक कुल 1747 एमएम हो चुकी है जा ेकि 50 साल में सबसे ज्यादा है।

8 फीट गहरे पानी में फंसे 2 मासूम, कांस्टेबल ने बचाया

काेटा में चंबल के पास संजय काॅलाेनी में पानी बढ़ा ताे एक परिवार के लाेग सामान निकालकर बाहर अाए। वे वापस घर पहुंचते इससे पहले ही पानी और बढ़ गया। घर पर दाे मासूम फंस गए। छाेटी पुलिया पर नयापुरा थाने के कांस्टेबल राकेश मीणा की ड्यूटी थी। परिजनाें की चीख-पुकार सुनकर वे माैके पर पहुंचे। उन्होंने ट्‌यूब का इंतजाम किया अाैर 7-8 फीट गहरे पानी में कूदे और दाेनाें बच्चाें को सुरक्षित ले आए।

प्रभावित जिलाें में कर्मचारियाें की छुट्‌टी रद्‌द, सीएम अाज करेंगे दाैरा

सीएम अशाेक गहलाेत ने बाढ़ प्रभावित जिलों के कर्मचारियों के अवकाश निरस्त किए गए हैं। गहलोत ने मप्र के सीएम कमलनाथ से भी बात की और आशा जताई कि दोनों राज्य बचाव कार्यों में कमी नहीं आने देंगे। गहलोत साेमवार काे बूंदी, काेटा, झालावाड़ व धाैलपुर का हवाई दाैरा करेंगे।

प्रदेश में बारिश

rainrainrain
सामान्य: -19 से 19% तक {सामान्य से ज्यादा: 20% से ज्यादा
सामान्य से कम: -20% से कम
बारिश मिमी में }आंकड़े 15 सितंबर तक।