कौशल एवं आजीविका मिशन के तहत सोलर पॉवर पर विशेष प्रशिक्षण सम्पन्न



जयपुर । राजस्थान स्किल यूनिवर्सिटी के वॉइस चान्सलर डॉ. ललित.के. पंवार ने कहा है कि राजस्थान कौशल एवं आजीविका मिशन युवाओं के बेहतर भविष्य के लिए एक रोजगारोन्मुखी कार्यक्रम है, इसके माध्यम से युवाओं को विभिन्न ट्रेड्स में प्रशिक्षित कर लाभान्वित किया जा रहा है।
डॉ. पंवार शनिवार को जयपुर के जामडोली में आईएलडी में सोलर के क्षेत्र में निःशुल्क आवासीय कौशल विकास कार्यक्रम के समापन अवसर पर सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम विशेषकर सोलर पॉवर के क्षेत्र में युवाओं को प्रशिक्षित करने के उद्देश्य से आयोजित किया गया। इसके माध्यम से युवाओं को अत्याधुनिक सोलर तकनीक और सौर ऊर्जा के क्षेत्र में रोजगार की संभावनाओं के बारे में प्रशिक्षण प्रदान किया गया।
उन्होंने कहा कि राजस्थान में सौर ऊर्जा प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है, इसका उपयोग कर सौर ऊर्जा से बिजली का उत्पादन करने के लिए और अधिक सोलर प्लांट लगाते हुए युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जा सकते हैं। उन्होंने तकनीकी संस्थानों के प्रतिनिधियों से अपील की कि वे सौर ऊर्जा के क्षेत्र में अधिक से अधिक कार्य करें ताकि इसके माध्यम से युवाओं के भविष्य को संवारा जा सके।
डॉ. पंवार ने बताया कि सौर ऊर्जा के क्षेत्र में 2000 आई.टी.आई. प्रशिक्षकों को विशेष प्रशिक्षण देने के लिए राजस्थान सरकार व आईएलडी के बीच नवम्बर, 2016 में एमओयू किया गया था। इसके तहत प्रथम बैच का प्रशिक्षण गत 11 दिसम्बर को प्रारम्भ किया गया था, जिसमें 27 प्रतिभागियों को प्रशिक्षित किया गया है, इनमें 24 सरकारी व 3 निजी आई.टी.आई. से सम्बन्धित हैं। इनको एडवान्स इलेक्ट्रीकल, सोलर, फेकल्टी डवलपमेंट, कंफ्लिक्ट मैनेजमेंट, एक्सीलेंस इन ट्रेनिंग आदि का प्रशिक्षण प्रदान किया गया।
प्रशिक्षण के समापन अवसर पर आईएफसीआईके एमडी तथा सीईओ श्री शंकर राव, आईएलडी के कार्यकारी निदेशक श्री शिवेन्द्र तौमर सहित जिलों से आए आईटीआई संस्थानों के प्रतिनिधियों ने भी अपने अनुभव साझा किए। इस अवसर पर राजस्थान कौशल एवं आजीविका मिशन के तहत उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों को सम्मानित भी किया गया।