श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के नाम पर होगा स्किल यूनिवर्सिटी,- अमरिन्दर



पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने चमकौर साहिब में बनने वाली स्किल यूनिवर्सिटी का नाम सिखों के दशम पिता श्री गुरू गोबिंद सिंह जी के नाम पर रखने के अपनी सरकार के फ़ैसले के साथ श्री आनंदपुर साहिब शहरी विकास अथारिटी को पुन: सृजित करने की भी घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने यह घोषणा श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के 350वें प्रकाश पर्व के अवसर पर श्री गुरु गोबिंद सिंह जी को श्रद्धाँजलि भेंट करने के बाद श्री केशगढ़ साहिब गुरूद्वारे के सामने एक बड़े समारोह को संबोधन करते हुए की। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह भारत सरकार को राज्य और शेष भारत में श्री गुरु गोबिंद सिंह मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग और विशेष महत्ता वाले मार्ग के तौर पर घोषणा करने के लिए विनती करेंगे।इस समारोह के अवसर पर कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ पूर्व प्रधान मंत्री डा. मनमोहन सिंह भी थे। इस अवसर पर कैप्टन अमरिंदर सिंह की पत्नी और पूर्व केंद्रीय मंत्री परनीत कौर, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की नेता आशा कुमारी, हरीश चौधरी और अम्बिका सोनी, स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू, पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान सुनील जाखड़, पंजाब विधानसभा के स्पीकर और आनंदपुर साहिब से विधायक राणा के.पी. सिंह और अन्य उपस्थित थे।

तख्त श्री केशगढ़ साहिब के जत्थेदार ज्ञानी रघुबीर सिंह और हैड ग्रंथी फूला सिंह ने इस ऐतिहासिक अवसर पर कैप्टन अमरिंदर सिंह को सिरोपा भेंट किया। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि यह मौका उनके लिए हमेशा ही खुशियों वाला महसूस होता रहेगा। जत्थेदार ने पूर्व प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह को भी सिरोपा भेंट किया।इससे पहले मुख्यमंत्री तख्त श्री पटना साहिब में भी गुरू गोबिंद सिंह जी के 350वें प्रकाश पर्व समारोह को मनाने के लिए गए थे। उन्होंने कहा कि श्री आनन्दपुर साहिब की धरती सिखों के दिलों में विशेष स्थान रखती है क्योंकि इस धरती पर श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी। उन्होंने कहा कि श्री गुरु गोबिंद सिंह जी की विचारधारा और फिलोसिफी बहुत ज़्यादा विलक्षण है और यह दुनिया भर के सिखों के लिए आज भी तर्कसंगत है। मुख्यमंत्री ने गुरु गोबिंद सिंह जी के महान बलिदान को याद करते हुए कहा कि वह इस ऐतिहासिक समारोह में शामिल होकर अपने आप को भाग्यवान महसूस कर रहे हैं।