हॉकर की हत्या के बाद पथराव, लाठीचार्ज के बाद गुस्साई भीड़ ने टायर फूंके, पूर्व विधायक की हालत बिगड़ी

जयपुर. शहर के खोहनागोरियान इलाके में मदीना कॉलोनी में गुरूवार को अखबर बांटने वाले हॉकर मन्नूलाल वैष्णव की हत्या के बाद बवाल हो गया। गुस्साई भीड़ ने खोहनागोरियान थाने के बाहर मेन रोड पर जाम लगा दिया। इसके बाद पुलिस थाने पहुंचकर हंगामा किया। वहां जमकर नारेबाजी की और मामले में लापरवाही बरतने वाले थानाप्रभारी वीरेंद्र सिंह को सस्पेंड करने की मांग की।

इस बीच भाजपा सरकार में संसदीय कार्य मंत्री रह चुके पूर्व विधायक कैलाश वर्मा और बस्सी से विधायक रहे लक्ष्मीनारायण मीणा भी खोहनागोरियान थाने पहुंच गए। इनके साथ स्थानीय भाजपा नेता और समाचार वितरक संघ जयपुर के संगठन महामंत्री अजय यादव भी घटनास्थल पर पहुंचे। इसके बाद भाजपा नेता अरुण चतुर्वेदी, किरोड़ीलाल मीणा, सांसद रामचरण बोहरा सहित अन्य नेता थाने पहुंचे। वहां धरना पर बैठ गए।

इनका आरोप था कि जिस व्यक्ति को मानसिक कमजोर बताकर रफीक खान हत्या के आरोप में पकड़ा है। उसके साथ अन्य लोग भी शामिल थे। जिन्हें गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है। इसी बीच मौके पर पहुंचे डीसीपी पूर्व राहुल जैन व एसीपी आदर्श नगर पुष्पेंद्र सिंह ने भीड़ में मौजूद लोगों को समझाने का प्रयास किया। उन्हें न्यायोचित कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया।

लेकिन नेता और पुलिस अफसरों के बीच बात नहीं बनी। इस बीच विवाद बढ़ गया। पहले पुलिस और भीड़ में मौजूद लोगों के बीच धक्कामुक्की हुई। इस बीच लोगों ने थाने में ही टैंट लगाकर वहां धरना देने का प्रयास किया। जब पुलिस बल ने प्रदर्शन में मौजूद लोगों को लाठियां भांजकर खदेड़ा। तब गुस्साई ने पथराव शुरु कर दिया। इनमें पूर्व विधायक कैलाश वर्मा सहित कुछ अन्य लोगों व पुलिसकर्मियों के चोटें आई।

कैलाश वर्मा की तबियत बिगड़ गई। उसे पूर्व विधायक कन्हैयालाल मीणा व अन्य समर्थक गोद में उठाकर ले जाने लगे। तब वहां मौजूद डीसीपी कावेंद्र सागर ने कन्हैयालाल मीणा को वहीं रोक लिया। जबकि कैलाश वर्मा को एंबुलेंस से एसएमएस अस्पताल भेजा गया। इस दौरान गुस्साई भीड़ ने गोनेर तिराहे पर टायर फूंककर विरोध जताया।

इसी तरह, खोहनागोरियान थानाप्रभारी वीरेंद्र सिंह और कुछ पुलिसकमिर्यों ने घटनास्थल के पास पार्षद कमलेश कसोटिया के घर पर कवरेज के दौरान दैनिक भास्कर के फोटोजर्नलिस्ट अनिल शर्मा से बदसलूकी करते हुए मारपीट की। उन्हें जबरन धकेलते हुए पुलिस की जीप में पटककर दबा दिया।

वहां भी हाथापाई की और ऐसे गाड़ी में पटककर भाग निकले। जेसे कोई अपराधी को ले गए हों। बाद में, भास्कर के सीनियर रिपोर्टर राजेंद्र गौतम व भगवान चौधरी ने पीछा कर जीप को रुकवाया। इस दौरान पुलिसकर्मियों ने फिर से बदसलूकी की। लेकिन आखिरकार पुलिसकर्मियों को फोटोजर्नलिस्ट को छोड़ना पड़ा। बाद में, अनिल शर्मा का मेडिकल मुआयना करवाया। इसकी उच्चाधिकारियों से शिकायत की गई।

SHARE