विहिप की भगवा वाहन रैली पर पथराव से तनाव, धरने पर बैठे कार्यकर्ताओं ने की गिरफ्तारी की मांग


सवाई माधोपुर. जिले के गंगापुर सिटी कस्बे में रविवार को विश्व हिंदू परिषद के स्थापना दिवस पर निकाली गई भगवा वाहन रैली पर एक धार्मिक स्थल और आसपास से पथराव हो गया। इस दौरान बाजार में कुछ वाहनों में भी तोड़फोड़ भी हुई। इस बीच दोनों पक्षों के लोग आमने-सामने होने की नौबत आ गई। इलाके में तनाव व्याप्त हो गया। माहोल बिगड़ने से कस्बे में बाजार में आसपास की दुकानें बंद हो गई।

हालांकि, दोनों पक्षों में टकराव बढ़ता इससे पहले ही रैली के साथ चल रहे पुलिस अधिकारियों और फोर्स ने उन्हें दूर कर दिया। जिससे मामला ज्यादा गंभीर नहीं हुआ। वहीं, पथराव में चोट लगने से रैली में चल रहे कुछ विहिप कार्यकर्ताओं के चोटें आई। इसके बाद विहिप के कार्यकर्ताओं में रोष व्याप्त हो गया।

वे वहीं बाजार में फव्वारा चौक पर धरना देकर बैठ गए। उनके समर्थन में पूर्व भाजपा विधायक मानसिंह गुर्जर और आर्य समाज के स्थानीय प्रमुख मदन मोहन आर्य भी धरना स्थल पर पहुंच गए। इस दौरान आक्रोशित कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने पथराव में शामिल दोषियों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की।

सूचना मिलने पर सवाई माधोपुर एसपी सुधीर चौधरी व जिला कलेक्टर एसपी सिंह मौके पर पहुंचे। पुलिस जाब्ते को इलाके में अलग अलग तैनात कर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने अलग अलग दोनों समाज के प्रतिधिनियों से मामले को शांत करने के लिए समझाईश शुुरु की। लेकिन एक पक्ष सिर्फ गिरफ्तारी की मांग पर अड़ा रहा।

जानकारी के अनुसार विहिप के स्थापना दिवस पर विहिप व बजरंग दल के तत्तवावधान में रविवार को गंगापुर सिटी में भगवा वाहन रैली निकाली जानी थी। इसे लेकर प्रशासन पहले ही सीएलजी सदस्यों और दोनों समुदायों की मीटिंग भी ले चुका था। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बाजार में एक धार्मिक स्थल के सामने से गुजर रही थी।

पथराव में घायल हुए लोगों का आरोप है कि जब रैली का अंतिम हिस्सा चल रहा था। तभी बाजार में एक धार्मिक स्थल और आसपास के मकानों से पथराव शुरु हो गया। इससे वाहन रैली में मौजूद विहिप कार्यकर्ताओं में अफरा तफरी मच गई। इनमें कुछ लोग तेजी से वाहन दौड़ाते हुए तो कुछ पैदल भागकर आगे आए। पथराव से माहोल बिगड़ गया। तब पुलिस अधिकारी और जाब्ता वापस पीछे की तरफ दौड़ा। दोनों पक्षों के लाेग आमने सामने होने लगे। तब उन्हें अलग कर दिया। इससे टकराव टल गया।